आओ जाने सुहागरात कैसे यादगार बनाए Aao jaane suhagraat kaise yadgar banaen

सुहागरात जीवन का अहम पल है। हर कोई इसे यादगार बनाना चाहता है। लेकिन न्यूली वेडेड कपल को जहां इस पल का बेसब्री से इंतजार रहता है, वहीं वे कुछ टेंशन में भी रहते हैं। उन्हें चिंता सताती रहती है कि वह अपने पार्टनर को सेक्सुअली संतुष्ट कर पाएंगे या नहीं। इस रात जल्दीबाजी में की गई कोई भी गलती आपको अपने पार्टनर के सामने झेंपने के लिए मजबूर कर सकती है।

जानिये कैसे मर्द चाहती है भारतीय नारी Janiye kaise mard chahti hai bhartiya nari

प्रिय दोस्त हर लड़का चाहता है की उसकी लाइफ पार्टनर उसकी पसंद की हो. लेकिन क्या आपने सोचा है की लड़कियां होने वाली पति के बारे में क्या सोचती है. शायद आप सोच रहे होंगे की लड़कियों की कोई पसंद नापसंद नहीं होती है क्योंकि उन्हें वहीँ जाना होता है जहाँ उनके घरवाले चाहते है लेकिन अब जमाना बदल चूका है.

लोगों की सेक्स के बारे में गलत धारणाएं Logo ki sex ke baare me galat dharnaen

लोगो में सेक्स को लेकर बहुत तरह की गलतफहमियां हैं. सेक्स शिक्षा का अभाव ही सेक्स व इससे संबंधी गलत जानकारियों को मानने के लिए जिम्मेदार है लेकिन अब हमें समय के अनुसार बदल जाना चाहिए. आज इस पोस्ट पर हम कुछ ऐसे ही मिथकों के बारे में जानकारी देंगे.

महिला कंडोम से क्या हानियां हो सकती हैं Mahila kondom se kya haniyan ho sakti hai

गर्भधारण को रोकने में जनाना कंडोम भी बहुत प्रभावशाली है यदि इसका सही ढ़ंग से और नियमित रूप से प्रयोग किया जाए तो इसकी प्रभविष्णुता 98 प्रतिशत है अगर सही और नियमित न हो तो प्रभविष्णुता की दर घट जाती है। इसे उपयोग करना जितना लाभदायक है उतना ही हानिकारक भी हो सकता है.

महिला कंडोम क्या होता है इसके क्या लाभ है Mahila kondom kya hota hai iske kya laabh hai

महिला कंडोम 17 सेमी. (6.5 इंच) लम्बी पोलीउस्थ्रेन की थैली होती है। इसे गर्भ निरोध के लिए सम्भोग के समय महिला पार्टनर द्वारा पहना जाता है। यह सारी योनि को ढक देती है जिससे गर्भ धारण नहीं होता और एच आई वी सहित यौन सम्पर्क से होने वाले रोग नहीं होते। आइये इसके बारे में ज्यादा जानकारी लेते है.

जनाना कंडोम के उपयोग की सही विधि क्या है Mahila kondom ke upyog ki sahi vidhi kya hai

गर्भधारण को रोकने में जनाना कंडोम भी बहुत प्रभावशाली है यदि इसका सही ढ़ंग से और नियमित रूप से प्रयोग किया जाए तो इसकी प्रभविष्णुता 98 प्रतिशत है अगर सही और नियमित न हो तो प्रभविष्णुता की दर घट जाती है। इसलिए इसे प्रयोग करने से पहले इसके सही उपयोग की जानकारी प्राप्त करें.