Free Games/Apps
Click here to download

जई की आधुनिक खेती करने की जानकारी Jayi ki aadhunik kheti karne ki jankari

Android apps:- 9 Apps
जई शरद ऋतू में उगाई जाती है जई की खेती के लिए दोमट या भारी दोमट भूमि उपयुक्त होती है भूमि में पानी का निकास होना चाहिए। जई एक पौष्टिक चारा हो जो कि सभी वर्गों के पशुओं को अधिक मात्रा में खिलाया जाता है।  प्रोटीन की मात्रा अपेक्षाकृत कम होती है, इसलिए इसको बरसीम अथवा रिजका के साथ 1:1 अथवा 2:1 के अनुपात में खिलाना चाहिए।
Download apps:- 9 Apps

बरसीम की आधुनिक खेती करने की जानकारी Barsim ki aadhunik kheti karne ki jankari

बरसीम हरे चारों में अपने गुणो द्वारा दुधारू पशुओ के लिए प्रसिद्ध है। उत्तरी एवं पूर्वी क्षेत्रों में मक्का या धान के बाद रबी की फसल में बरसीम की खेती की जाती है बरसीम की खेती हरे चारे हेतु लगभग पूरे भारतवर्ष में की जाती है। बरसीम चारे की बुआई अक्टूबर के पहले पखवारे में करने से पशुओं को हरा चारा दिसम्बर से मई तक मिलता रहता है।  वरसीम मक्का, धान, ज्वार या बाजरा के बाद आसानी से बोई जा सकती है।

अदरक की आधुनिक खेती करने की जानकारी Adrak ki aadhunik kheti karne ki jankari

किसान चाहे तो अदरक की खेती किसी भी तरह के भूमि पर कर सकते है लेकिन उचित जल निकास वाली दोमट भूमि में अदरक की खेती को सबसे सर्वोतम माना जाता है। मांदा का निर्माण करना भी अदरक की खेती के लिए अच्छा होता है। मांदा निर्माण से पहले खेत की अच्छी तरह से जुताई कर के उसे भुरभुरा बना लेना चाहिए।

केले की आधुनिक खेती करने की जानकारी Kele ki aadhunik kheti karne ki jankari

अगर आप केले (Banana) की खेती करने का सोच रहे है तो इस खेती के लिए वैज्ञानिक तकनीको को अपनाएं। केले की खेती से किसानो को काफी मुनाफा हो सकता है क्योंकी केला पका हो या फिर कच्चा बाज़ार में इन दोनों के अच्छे दाम मिल जाते है । केले के अच्छे उपज के लिए कुछ बातों का खास ख्याल रखना होता है जैसे की भूमि और मिट्टी का चयन , पौधे की सिंचाई, आदि । तो आइये हम जानते है  कैसे करे केले की खेती ।

गन्ने की खेती वैज्ञानिक तरीके से कैसे करे Ganne ki Kheti vaigyanik tarike se kaise karen

कृषि वैज्ञानिको द्वारा गन्ने की खेती के लिए गहरी दोमट भूमि सबसे best मानी जाती है। भूमि की जुताई 40 से 60cm तक गहरी करनी चाहिए क्योंकि 75% जड़े इसी गहराई पर पाई जाती है । खेती शुरु करने से पहले भूमि की जुताई कर उसे भुरभुरा बना लें फिर उसपर पाटा चला कर उसे समतल बना लें । गन्ने की खेती के लिए खेत को खरपतवार से दूर रखना जरुरी है । खेत की आखिरी  जुताई करने से पूर्व 10-12 ton प्रति एकड़ गाय की सड़ी हुई गोबर की खाद को भूमि में मिला देना चाहिए ।

हरे प्याज की खेती करने का वैज्ञानिक तरीका Hare Pyaj i kheti karne ka vaigyanik tarika

हरा प्याज एक कन्दीय फसल है लेकिन इसकी जड़ या कन्द छोटा होता है। इसके सेवन से विटामिन, कैल्शियम, लोहा तथा खनिज-लवण प्रचुर मात्रा में प्राप्त होते हैं। यह यूरोपीय देशों की एक प्रमुख फसल है लेकिन आजकल इसे भारत में भी गृह-वाटिका व फार्म हाउस तथा कुछ प्रगतिशील कृषक भी उगाने लगे हैं। इसकी गांठें अधिक निर्माण नहीं करतीं तथा पत्तियां लम्बी लहसुन की भांति होती हैं। तना सफेद व पत्ते चौड़े सीधे, नुकीले होते हैं।
© Copyright 2013-2016 Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BY BLOGGER.COM