आँखों के बचाव के सुझाव Aankhon ki surksha ke sujhav

Android apps:- 9 Apps
Tips to Protect Your Eyes. आँखों के बचाव के सुझाव Aankhon ki surksha ke sujhav.

हम जिम जाते है, चॉकलेट और केक आदि से परहेज करते है इतना ही नहीं हम स्वास्थ्य के नाम पर बहुत कुछ करते है! लेकिन हम अपने सबसे मूल्यवान अंगों हमारी आंखों की रक्षा करने के लिए क्या कर सकते हैं? क्या आपने कभी सोचा है!



आइये आज इस विषय पर कुछ बाते पढ़े:-
  • नियमित जाँच:- समय – समय पर आँखों की जाँच करवाते रहे
  • नेत्र-स्नान- आँखों को स्वच्छ, शीतल और निरोगी रखने के लिए सुबह, भोजन के बाद, दिन में कई बार और सोते समय मुँह में शीतल जल भरकर आँखों पर स्वच्छ, शीतल जल के छींटे मारें। इससे आँखों की ज्योति बढ़ती है।
  • पानी में आँखें खोलें- स्नान करते समय किसी चौड़े मुँहवाले बर्तन में साफ, ताजा पानी लेकर, उसमें आँखों को डुबोकर बार-बार खोलें और बंद करें। यह प्रयोग अगर किसी नदी या सरोवर के शुद्ध जल में डुबकी लगाकर किया जाय तो अपेक्षाकृत अधिक फायदेमंद होता है। इस विधि से नेत्र-स्नान करने से कई प्रकार के नेत्ररोग दूर हो जाते हैं।
  • विश्राम - आँखों को आराम देने के लिए थोड़े - थोड़े समय के अंतराल के बाद आँखों को बंद करके, मन को शांत करके, अपनी दोनों हथेलियों से आँखों को इस प्रकार ढँक लो कि तनिक भी प्रकाश और हथेलियों का दबाव आपकी पलकों पर न पड़े। इससे आँखों को विश्राम मिलता है और मन भी शांत होता है। रोगी-निरोगी, बच्चे, युवा, वृद्ध – सभी को यह विधि दिन में कई बार करना चाहिए।
  • आँखों को गतिशील रखोः “गति ही जीवन है” पलके झपकाना आँखों की सामान्य गति है। पलकें झपकाकर देखने से आँखों की क्रिया और सफाई सहज में ही हो जाती है। हमें बार-बार पलकों को झपकाने की आदत को अपनाना चाहिए। पलकें झपकाते रहना आँखों की रक्षा का प्राकृतिक उपाय है।
  • सूर्य की किरणों का सेवन - प्रातः सूर्योदय के कुछ समय बाद और शाम को सूर्यास्त से कुछ समय पहले सूर्य के सामने आँखें बंद करके आराम से इस तरह बैठो कि सूर्य की किरणें बंद पलकों पर सीधी पड़ें।
  • आँखों की सामान्य कसरतें- हर रोज प्रातः और सायं पलकों को तेजी से खोलने तथा बंद करने का अभ्यास करो। आँखों को जोर से बंद करो और दस सेकेंड बाद तुरंत खोल दो। यह विधि एक – दो मिनट तक करो।
  • सही ढंग से पढ़ो और देखो- विद्यार्थियों को इस बात पर विशेष ध्यान देना चाहिए कि वे आँखों को चौंधिया देने वाले अत्यधिक तीव्र प्रकाश में न देखें। सूर्यग्रहण और चन्द्रग्रहण के समय सूर्य और चन्द्रमा को न देखें। कम प्रकाश में अथवा लेटे-लेटे पढ़ना भी आँखों के लिए बहुत हानिकारक है। पढ़ते समय आँखों और किताब के बीच 12 इंच अथवा थोड़ी अधिक दूरी रखनी चाहिए।
  • उचित आहार-विहार- आपकी आँखों का स्वास्थ्य आपके आहार पर भी निर्भर करता है। कब्ज नेत्ररोगों के अलावा शरीर के कई प्रकार के रोगों की जड़ है। इसलिए पेट हमेशा साफ रखो और कब्ज न होने दो। इससे भी आप अपनी आँखों की रक्षा कर सकते हैं। इसके लिए हमेशा सात्त्विक और सुपाच्य भोजन लेना चाहिए। अधिक नमक, मिर्च, मसाले, खटाई और तले हुए पदार्थों से जहाँ तक हो सके बचने का प्रयत्न करना चाहिए। आँखों को निरोगी रखने के लिए सलाद, हरी सब्जियाँ अधिक मात्रा में खानी चाहिए।
  • योग से रोग मुक्तिः योगासन भी नेत्ररोगों को दूर करने में सहायक सिद्ध होते हैं। सर्वांगासन नेत्र-विकारों को दूर करने का और नेत्र-ज्योति बढ़ाने का सर्वोत्तम आसन है।
  • गर्मी और धूप - गर्मी और धूप में से आने के बाद गर्म शरीर पर एकदम से ठंडा पानी न डालो। पहले पसीना सुखाकर शरीर को ठंडा कर लो। सिर पर गर्म पानी न डालो और न ज्यादा गर्म पानी से चेहरा धोया करो।
  • चमकीले पदार्थ - बहुत दूर के और बहुत चमकीले पदार्थों को घूरकर न देखा करो।
  • समय पर जागना और सोना - नींद का समय हो जाय और आँखें भारी होने लगें, तब जागना उचित नहीं। सूर्योदय के बाद सोये रहने, दिन में सोने और रात में देर तक जागने से आँखों पर तनाव पड़ता है और धीरे-धीरे आँखें बेनूर, रूखी और तीखी होने लगती हैं।
  • धूल, धुआँ और तेज रोशनी - धूल, धुआँ और तेज रोशनी से आँखों को बचाना चाहिए।
  • परहेज - अधिक खट्टे, नमकीन और लाल मिर्चवाले पदार्थों का अधिक सेवन नहीं करना चाहिए।
  • आँखें कमजोर होती हैं - मल-मूत्र और अधोवायु के वेग को रोकने, ज्यादा देर तक रोने और तेज रफ्तार की सवारी करने से आँखों पर सीधी हवा लगने के कारण आँखें कमजोर होती हैं। इन सभी कारणों से बचना चाहिए।
  • ध्यान दे - मस्तिष्क को चोट से बचाओ। शोक-संताप व चिंता से बचो। ऋतुचर्या के विपरीत आचरण न करो और आँखों के प्रति लापरवाह न रहो। आँखों से देर तक काम लेने पर सिर में भारीपन का अनुभव हो या दर्द होने लगे तो तुरंत अपनी आँखों की जाँच कराओ।
  • काजल - घर पर तैयार किया गया काजल सोते समय आँखों में लगाना चाहिए। सुबह उठकर गीले कपड़े से काजल पोंछकर साफ कर दो।

Download apps:- 9 Apps

एक टिप्पणी भेजें

© Copyright 2013-2016 Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BY BLOGGER.COM