कम वस्त्र पहनने के फायदे kam kapde pahanne ke fayde

Android apps:- 9 Apps
Kam se kam kapde pahanne ke fayde. कम से कम वस्त्र पहनने के फायदे। The advantages of minimal wear garments.

बहुत से लोग रात को पुरे कपडे पहन कर सोते है। शायद वो नहीं जानते की कपडे उतार कर नग्न होने में भी फायदा छिपा हुआ है। खासकर गर्मियों में तो और भी ज्यादा फायदा है।



यदि आप नग्न नहीं होना चाहते तो कम से कम या ढ़ीले कपड़े पहनें। हो सकता है कि आपको शर्म महसूस हो, लेकिन बहुत सारे लोग ऐसे हैं, जो नग्न होकर सोते हैं। आइये नग्न होने से होने वाले फायदे को समझें ।

नग्न होने के फायदे:-
  1. विटामिन डी - सुबह 10 से 15 मिनट तक आप आधी नग्न अवस्था में सूर्य की किरणें अपने शरीर पर ले तो आपको विटामिन डी बिलकुल फ्री प्राप्त हो जाएगा।
  2. त्वचा को फायदा - हमारी त्वचा को भी हवा की जरूरत होती है। तंग कपडे हमारी त्वचा को कमजोर बनाते है इसलिए ढ़ीले कपडे पहने या रात को नग्न होकर रहे जिससे आपकी त्वचा को हवा मिलने का मौका मिल सकेगा।
  3. लाल निशान – तंग कपडे पहनने से शरीर पर कई जगह लाल निशान पड़ जाते है. ढीले कपडे पहनने से कुछ हद तक बचा जा सकता है.
  4. स्वस्थ मस्तिष्क - नंगे पांव चलना या दौड़ना मस्तिष्क की सक्रियता बढ़ाने में सहायक होता है।
  5. आराम प्राप्ति - नग्न होकर लेटना आपके रक्त प्रवाह को सुधारता है, आपके तंत्र को विषमुक्त बनाता है, और इस प्रकार आपको गरमाहट व स्वतन्त्रता प्रदान करता है।
  6. संक्रमण से मुक्ति - कपड़ों के पसीने से भीग जाने पर बैक्टीरिया प्रजनन को बढ़ावा मिलता है जिनसे कई संक्रमण पैदा हो सकते हैं। इसलिए भी नग्न होना फायदेमंद है.
  7. प्रजनन क्षमता - तंग अंडरवियर या कम कमर की जींस सीधे आपके लिंग व जननांग पर दबाव डालती है जिससे रक्त प्रवाह बाधित हो सकता है। और शुक्राणुओं की संख्या में कमी आ सकती है।
  8. रक्त परिसंचरण - रक्त परिसंचरण में सुधार करने और पेट के क्षेत्र के तनाव को कम करने के लिए कभी-कभी नग्न होकर सोयें या ढ़ीले कपड़े पहनें।
  9. अच्छी नींद – रात्रि में नींद का भरपूर आनंद लेने के लिए कम से कम वस्त्र पहनकर सोयें। बिना वस्त्रों के आप खुद को मानसिक और शारीरिक रूप से स्वतन्त्र महसूस करोगे।
  10. आपका मूड भी बेहतर हो जायेगा।

Download apps:- 9 Apps
loading...

एक टिप्पणी भेजें

© Copyright 2013-2016 Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BY BLOGGER.COM