0
In summer to protect from disease. गर्मी में रोग से बचाव करे- Garmi me rog se bachav karen.

हम कुछ छोटी-छोटी किन्तु महत्त्वपूर्ण बातो का ध्यान रख कर, गर्मी में होने वाले आम रोग से बच कर, गर्मी का आनंद ले सकते हैं!


गर्मी में होने वाले आम रोग से बचाव:-

गर्मी में लापरवाही के कारण शरीर में कई बीमारी हो जाती हैं.

उपचार से बचाव  बेहतर होता है, है ना?

तो चलिए हम कुछ वचाव के तरीके जानते हैं -
  • गर्मी में सूरज अपनी प्रखर किरणों से जगत के स्नेह को पीता रहता है,इसलिए गर्मी में मधुर(मीठा), शीतल(ठंडा), द्रव (liquid) तथा इस्निग्धा  खान-पान हितकर होता है!
  • गर्मी में जब भी घर  से निकले, कुछ खा कर और पानी पी कर ही निकले, खाली पेट नहीं.
  • गर्मी में ज्यादा भारी (garistha), बासा भोजन नहीं करे, क्योंकि गर्मी में शरीर की जठराग्नि मंद रहती है, इसलिए वह भारी खाना पूरी तरह पचा नहीं पाती और जरुरत से ज्यादा खाने या भारी खाना खाने से उलटी-दस्त की शिकायत हो सकती है
  • गर्मी में सूती और हलके रंग के कपडे पहनने चाहिये
  • चेहरा और सर रुमाल या साफी से ढक कर निकलना चाहिये
  • प्याज का सेवन तथा जेब में प्याज रखना चाहिये
  • बाजारू ठंडी चीजे नहीं बल्कि घर की बनी ठंडी चीजो का सेवन करना चाहिये
  • ठंडा मतलब आम (केरी) का पना,  खस, चन्दन गुलाब फालसा संतरा  का सरबत, ठंडाई सत्तू, दही की लस्सी, मट्ठा, गुलकंद का सेवन करना चाहिये
  • इनके अलावा लोकी, ककड़ी, खीरा, तोरे, पालक, पुदीना, नीबू, तरबूज आदि का सेवन अधिक करना चाहिये
  • शीतल पानी का सेवन, 2 से 3 लीटर रोजाना
  • अगर आप योग के जानकार हैं, तो सीत्कारी, शीतली तथा चन्द्र भेदन प्राणायाम  एवं शवासन का अभ्यास कीजिये ये शरीर में शीतलता का संचार करते हैं
तो दोस्तों इन कुछ छोटी छोटी बातो का ध्यान रख कर गर्मी से हम स्वयं को बचा सकते हैं!

गर्मी में होने वाले आम रोग

एक टिप्पणी भेजें

 
Top