भूखे को भोजन दे - Bhukhe ko Bhojan de.

भूखे को खाना खिलाना सबसे बड़ा दान माना जाता है। लेकिन हम पत्थरों के आगे भोजन की थाली रखते है, और हजारो लीटर दूध व्यर्थ किया जाता हैं।


दूध के लिए बच्चे तरसते है, अगर वो ही दूध किसी कमजोर बच्चे को पिलाया जाये तो व्यर्थ नही जायेगा। कई लोग भूखे सो जाते है खाना नहीं मिलता। भोजन का दान हमेशा भूखे को दें।


असली पूजा तो वो ही हैं.. फिर भी व्यर्थ का दिखावा या फिर व्यर्थ की श्रधा क्यों। भगवान को ना जाने किस किस तरह के व्यंजन या फिर फलो से प्रसन्न करने लग जाते हैं। पर क्या वो भोजन भगवान् खाता हैं नही ना, तो क्यों ना रोज एक भोजन की थाली गरीब को खाने को दे।

मंदिरों में जाते हैं तरह तरह का प्रसाद लगा भगवान को रिझाते हैं पर क्या वो प्रसाद भगवान खाते हैं.. नहीं ना

आओ इस बार प्रण ले और दूध को व्यर्थ ना बहावे.. भगवान तभी खुश होते हैं जब आप कुछ अच्छा करते हो..

और इससे बहुत से लोगो को मदद भी मिलेगी।

एक टिप्पणी भेजें