ब्रह्मचार्य का पालन ना करने से होने वाली हानियाँ abrahamcharya se ye haniyan hoti hai

प्रिय मित्र क्या आप जानना चाहते हो की ब्रह्मचार्य का पालन ना करने से हमें क्या – क्या हानियाँ होती है। यदि हाँ तो यह पोस्ट आपके लिए ही है आप यहाँ से ये सब जानकारी प्राप्त कर सकते हो. आइये इस पोस्ट को पूरा पढ़े और ब्रह्मचार्य का पालन ना करने से होने वाली हानियों की जानकारी प्राप्त करें।


ब्रह्मचार्य के नाश से हानियाँ:-   Read More Posts
  • मनुष्य कई प्रकार की बीमारियों का शिकार हो जाता है।
  • शरीर खोखला हो जाता है, थोड़ा-सा भी परिश्रम अथवा कष्ट सहन नहीं होता।
  • गर्मी, सर्दी और पीड़ा आदि का प्रभाव शरीर पर बहुत जल्दी होता है।
  • स्मरणशक्ति कमजोर हो जाती है।
  • संतान उत्पन्न करने की शक्ति नष्ट हो जाती है, संतान होती भी है तो दुर्लभ एवं अल्पायु होती है।
  • संकल्पशक्ति कमजोर हो जाती है, स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है, मन अत्यंत दुर्बल हो जाता है।
  • जरा भी प्रतिकूलता सहन नहीं होती, आत्मविश्वास कम हो जाता है।
  • काम करने में उत्साह नहीं रहता, शरीर में आलस्य छाया रहता है।
  • चित्त सदा सशंकित रहता है, मन में विषाद छाया रहता है।
  • कोई भी नया काम हाथ में लेने में भय मालूम होता है।
  • थोड़े-से भी मानसिक परिश्रम से दिमाग में थकान आ जाती है।
  • बुद्धि मंद हो जाती है, अधिक सोचने की शक्ति नहीं रहती।
  • असमय में ही वृद्धावस्था आ घेरती है और थोड़ी ही अवस्था में मनुष्य काल के गाल में चला जाता है।
  • चित्त स्थिर नहीं हो पता, मन और इन्द्रियाँ वश में नहीं हो पातीं।
  • मनुष्य भगवत्प्राप्ति के मार्ग से कोसों दूर हट जाता है।
  • ऐसी अवस्था में मनुष्य को चाहिए कि बड़ी सावधानी से वीर्य की रक्षा करे। वीर्यरक्षा ही जीवन है और वीर्यनाश ही मृत्यु है, इस बात को सदा स्मरण रखे। गृहस्थाश्रम में भी केवल संतानोत्पादन के उद्देश्य से ऋतुकाल में अधिक-से-अधिक महीने में दो बार स्त्रीसंग करे।
Read More Posts

एक टिप्पणी भेजें

© Copyright 2013-2017 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BYBLOGGER.COM