जानिये मौली बांधने के कारण Janiye Mauli bandhane ke karan

जानिये मौली बांधने के कारण.
Janiye Mauli bandhane ke karan.
Learn to tying Molly.


प्रिय मित्र अक्‍सर घरों और मंदिरों में पूजा समाप्‍त हो जाने के बाद पंडित जी ने कई बार आपकी कलाई पर लाल रंग का कलावा या मौली बांधा होगा। लेकिन क्या कभी आपने सोचा है की आखिर वो ऐसा क्यों करते है। हिंदू धर्म में कोई भी काम बिना वैज्ञानिक दृष्‍टि से हो कर नहीं गुजरता। मौली का धागा कच्‍चे सूत से कई रंगों जैसे, लाल, काला, पीला, सफेद या नारंगी रंगों में तैयार किया जाता है। कलावा को लोग हाथ, गले, बाजू और कमर पर बांधते हैं।

आइये जानते है  मौली( कलावा) बांधने का वैज्ञानिक रहस्य।
  • कलावा बांधने से भगवान ब्रह्मा, विष्णु व महेश तथा तीनों देवियों- लक्ष्मी, पार्वती व सरस्वती की कृपा प्राप्त होती है।
  • इससे आप हमेशा बुरी दृष्‍टि से बचे रह सकते हो।
  • इसे हाथों में बांधने से स्‍वास्‍थ्‍य में भी बरकत होती है।
  • इस धागे को कलाई पर बांधने से शरीर में वात, पित्त तथा कफ के दोष में सामंजस्य बैठता है।
  • इसे बांधने से रक्तचाप, हृदय रोग, मधुमेह और लकवा जैसे गंभीर रोगों से काफी हद तक बचाव होता है।

एक टिप्पणी भेजें