पढ़िए स्वामी विवेकानंद के दोहें Padhiye Swami Vivekanand ke dohe

पढ़िए स्वामी विवेकानंद के दोहें हिंदी में.
Padhiye Swami Vivekanand ke dohe hindi mein.
Read couplets of Swami Vivekanand in hindi.


संत विवेकानंद तुम, शुभ-संस्कृति का कोष।
गुँजा दिया इस सृष्टि में, भारत का जय घोष।।

उठो, जगो, आगे बढ़ो, पाओ जीवन-साध्य।
तुमने कहा कि राष्ट्र ही, एकमेव आराध्य।।

रोम-रोम पुलकित हुआ, गाकर दिव्य चरित्र।
जन्म तुम्हें देकर हुई, भारत भूमि पवित्र।।

साँस-साँस में राष्ट्रहित, शब्द-शब्द में ज्ञान।
राष्ट्रवेदिका पर किए, अर्पित तन मन प्राण।।

देव संस्कृति का किया, तप-तप कर उत्थान।
करता है दिककाल भी, ॠषि तेरा जयगान।।

सत्य और संस्कृति हुए, पाकर तुम्हें महान।
कदम मिलाकर चल पड़े, धर्म और विज्ञान।।

अनथक यात्री ने कभी, लिया नहीं विश्राम।
दिशा-दिशा के वक्ष पर, लिखा तुम्हारा नाम।

2comments

ईटरनेट पर एक ऐसी साईट है जिस पर
रजिस्ट्रेशन करने के बाद कुछ GK के
सवालो का जवाब देने पर आपको Rs 10
का मोबाइल रिचार्ज मिलता है ये वेबसाइट
है www.winrs10.tk
अगर नही मिले तो मुझे comment मे
बताए

Reply

Moti Suthar जी जानकारी शेयर करने के लिए आपका बहुत - बहुत धन्यवाद, यदि आपके पास कोई अन्य जानकारी भी है तो उसे भी कमेंट के माध्यम से इस ब्लॉग के विजिटर से शेयर करते रहें.

Reply

एक टिप्पणी भेजें

© Copyright 2013-2017 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BYBLOGGER.COM