लहसुन उपयोगी और लाभदायक Lahsun upyogi aur labhdayak

लहसुन उपयोगी और लाभदायक Lahsun upyogi aur labhdayak, Garlic is useful and profitable.

भारतीय व्यंजन बिना लहसुन के अधूरे हैं। हमारे खाने में अगर लहसुन की महक न हो, तो खाना फीका लगता है। लहसुन खाने को जितना स्वादिष्ट बनाता है, उतना ही यह पौष्टिक भी है।


लहसुन में गुणकारी सल्फ़र होता है, जिससे यह थोड़ा कसैला होता है और इसकी महक भी तीखी होती है। इसके अलावा लहसुन में एलिसिन होता है, जो एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायरल,एंटी-फंगल और एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। लहसुन सेलेनियम (एक प्रकार का धातु) का भी एक अच्छा स्रोत है। लहसुन आपके पेट और डाइजेस्टिव सिस्टम के लिए अच्छा है। ब्लड प्रेशर, हीलिंग और डिटॉक्सिफिकेशन जैसी दिक्कतों में लहसुन बेहद ही उपयोगी और लाभदायक है। लहसुन के इन गुणों के चलते आज हम आपको बता रहे हैं कि यह किन बीमारियों में उपयोगी है:  
  1. लहसुन खाने से दांतों में होने वाले दर्द में आराम मिलता है। दांतों में दर्द होने पर लहसुन को कच्‍चा पीसकर दांतों पर रख लें, इससे तुंरत आराम मिलेगा, क्‍योंकि लहसुन में एंटी-बैक्‍टीरियल तत्‍व होते हैं, जो दांत पर सीधा असर डालते हैं। 
  2. लहसुन में एक ऐसा केमिकल पाया जाता है, जो स्किन में होने वाले फंगल इन्फेक्शन, जैसे दाद-खुजली, एथलीट्स फुट जैसी दिक्कतों में फायदेमंद है। यानी लहसुन खाने से स्किन साफ भी रहती है।
  3. लहसुन में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-वायरल प्रॉपर्टी है, यानी यह हमारी बॉडी को बैक्टीरिया, वायरस, फंगस, यीस्ट और वॉर्म इन्फेक्शन से बचाता है। ताजा लहसुन खाने से कई फायदे होते हैं। यह फूड प्वाइजनिंग होने पर पैदा होने वाले बैक्टीरिया, जैसे ई.कोलाई (बैक्टीरिया-जिससे बॉडी पर रेड स्पॉट पड़ते हैं) को खत्म करता है। 
  4. लहसुन में एक ऐसा केमिकल पाया जाता है, जिसमें ऐसे गुण होते हैं, जो खून को पतला करने में सहायक होते हैं और शरीर में खून के थक्‍के बनने से रोकते हैं। लहसुन खाने से चोट लगने के बाद, खून बहने का डर भी नहीं रहता है। 
  5. एंजियोटेंसिन (पेप्टाइड हार्मोंस) एक तरह का प्रोटीन है, जिसके चलते बॉडी में ब्लड वेसल्स सिकुड़ जाती हैं और ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। इसके लिए लहसुन में एक ऐसा केमिकल होता है, जो एंजियोटेंसिन की एक्टिविटी को रोकता है, जिससे ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। लहसुन में पॉलिसल्फाइड्सहोते हैं, जो हाइड्रोज़न सल्फाइड् में बदल कर रेड ब्लड सेल्स को बढ़ाते हैं। इससे बॉडी का ब्लड प्रेशर सही रहता है। 
  6. लहसुन दिल के लिए एक बेहतर होम रेमिडी है। यह दिल से जुड़ी बीमारियां जैसे हार्ट अटैक से बचाता है और  ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखता है। रोज़ के खाने में लहसुन को शामिल करने से काफी सारी दिक्कतों से राहत मिलती है। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती जाती है, दिल की धमनियों की क्षमता कम होती जाती हैं। इसके लिए लहसुन सबसे बेस्ट है। लहसुन में सल्फ़र कम्पाउंड होने की वजह से यह ब्लड सेल्स को ब्लॉक होने और रक्तवाहिनी (ब्लड वेसल्स) को सख्त होने से रोकता है। 
  7. लहसुन में कोलेस्‍ट्रॉल को कम करने के गुण होते हैं। यह हमारे शरीर में खून में ट्राइग्लिसराइड्स की मात्रा को मेंटेन करता है। इससे कोलेस्‍ट्रॉल अपने आप कम हो जाता है। 
  8. लहसुन में एंटी-इन्फ्लामेटरी प्रॉपर्टी होती है जो बॉडी में होने वाली एलर्जी को खत्म करता है। लहसुन में एंटी- आर्थरिटिक प्रॉपर्टी भी होती है, जो आर्थराइटिस के दर्द कम करता है। इसमें एलर्जी से लड़ने वाले कई तत्‍व होते हैं। अगर लहसुन के जूस को पिया जाए, तो रैशज़ और रेड चकत्‍ते पड़ने की समस्‍या भी दूर हो सकती है।
  9. सांस की समस्‍या का निदान लहसुन के नियमित सेवन से भी हो सकता है। यह सांस की समस्‍या से निजात पाने के लिए अत्यधिक लाभकारी है। इससे सर्दी-जुकाम में भी राहत मिलती है। इसमें एंटी-बैक्‍टीरियल तत्‍व होते हैं, जो गले में होने वाले इन्फेक्शन को भी दूर रखते हैं। श्‍वास संबंधी कई समस्‍याएं, जैसे अस्‍थमा, सांस लेने में तकलीफ आदि के लिए लहसुन रामबाण है। इसके सेवन से कई गंभीर समस्‍याओं का समाधान भी हो जाता है। 
  10. डायबिटीज में लहसुन खाने से शरीर में इन्‍सुलिन की मात्रा बढ़ती है। इससे डायबिटीज में राहत मिलती है, क्‍योंकि यह ब्लड सुगर लेवल को सही रखता है।
  11. लहसुन से अंगों पर होने वाली बीमारियां, जैसे वॉर्ट्स और कॉर्न्स को कंट्रोल किया जा सकता है। 
  12. लहसुन के सेवन से हमेशा शारीरिक उत्तेजना बनी रहती है, क्‍योंकि लहसुन खाने से बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन सही बना रहता है। 
  13. लहसुन वजन घटाने में काफी कारगर है। कई शोधकर्ताओं ने यह पाया है कि लहसुन के सेवन से वज़न को घटाया जा सकता है, क्‍योंकि इसमें हमारे शरीर में बनने वाले फैट को भी कम करने की क्षमता होती है। ऐसे में आप आसानी से वज़न कम कर सकते हैं। इसमें प्री-एडीपोसाइट्स होते हैं, जो वसा कोशिकाओं को घटा देते हैं। लहसुन में 1,2-डीटी ( 1,2 विनयालिडीन ) भी पाया जाता है, जो वज़न को कम करता है। 
  14. लहसुन का नियमित सेवन करने से कैंसर होने का खतरा काफी कम रहता है। लहसुन में एंटी-कैंसर प्रॉपर्टी भी होती है। इसमें एक तत्‍व होता है पिल्‍प, जो एक प्रकार का हेट्रोसाइक्लिक एमीन होता है। इसकी सहायता से कोशिकाओं में असामान्‍य वृद्धि कम होती है। महिलाओं में लहसुन के सेवन से ब्रेस्‍ट कैंसर होने की संभावना काफी कम हो जाती है। 
  15. फेरोपोरटिन एक प्रोटीन है जो बॉडी में आयरन की खपत को बढ़ाता है और उसे पचाने में मदद करता है। लहसुन में डायली-सल्‍फाइड होता है जो फेरोपोरटिन की मात्रा को बढ़ा देता है और आयरन मेटाबॉलिज्‍म में सुधार कर देता है।

एक टिप्पणी भेजें