मिलिया की समस्या के समाधान Miliya ki samashya ke samadhan

चेहरे को कितना भी धो लें, लेकिन चेहरे की गंदगी रह ही जाती है जो बाद में 'मिलिया' के रूप में उभर कर आती है। यह समस्या कोई गम्भीर नहीं है, बस थोड़ी सावधानी बरती जाए, तो इससे बचा जा सकता है। आज हम आपको मिलिया की समस्या के समाधान के बारे में बता रहे हैं। 
 
क्या है मिलिया: मिलिया यानी सफेद फुंसी एक प्रकार की त्वचा की समस्या है, जो चेहरे को प्रभावित करती है। यह फुंसी बहुत ही छोटी होती है जो किसी भी उम्र में हो
सकती है। जब त्वचा की मृत कोशिकाएं त्वचा के ऊपर आती हैं तब यही मिलिया का रूप ले लेती हैं। मिलिया की समस्या सबसे अधिक बच्चों और युवा लड़कियों में देखी जाती है। आइए जानते हैं इससे बचने के कुछ उपाय:
  1. चेहरे को अच्छे से साफ करें: चेहरे पर गंदगी के कारण मिलिया की समस्या होने लगती है। यह तैलीय त्वचा की तुलना में सूखी त्वचा को अधिक प्रभावित करती है,क्योंकि सूखी त्वचा की कोशिकाएं आसानी से चेहरे के ऊपरी परत तक आ जाती हैं। इससे बचने के लिए दिन में कम से कम दो बार चेहरे को ज़रूर साफ करें। 
  2. अच्छे प्रोडक्ट को यूज़ करें: त्वचा के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले मॉइश्चराइजर क्रीम का प्रयोग करें। मॉइश्चराइजर क्रीम आपकी त्वचा की ऊपरी परत से मृत कोशिकाओं को आसानी से निकाल देती है,जिसके कारण ये फुंसियां चेहरे पर नहीं दिखाई देती हैं। 
  3. रेटीनॉल का यूज़ करे: यह विटामिन ए का पूरक माना जाता है,इसका प्रयोग एक्ने की समस्या को दूर करने के लिए किया जाता है। यह त्वचा की मृत कोशिकाओं को यानी ऊपरी परत को निकालकर त्वचा को साफ और मुलायम रखता है। अच्छे परिणाम के लिए रेटीनॉल युक्त क्रीम का प्रयोग सीधे तौर पर प्रभावित त्वचा पर करें। रेटीनॉल को आंखो के आसपास न लगाएं। 
  4. सूर्य की किरणों से बचाव करना है ज़रूरी: सूर्य की हानिकारक किरणों से मिलिया और भी बदतर हो सकती है। इसलिए अगर आप मिलिया से ग्रसित हैं तो सूर्य की हानिकारक किरणों से चेहरे का बचाव करें। तेज धूप में बाहर जाने से बचें और अगर जाना ज़रूरी हो तो चेहरे को ढक कर जाएं। 
  5. ज्यादा मेकअप करने से बचें: अगर आप मिलिया से ग्रस्त हैं, तो इसे छुपाने के लिए चेहरे पर अधिक कॉस्मेटिक का प्रयोग न करें। दरअसल कॉस्मेटिक और मेकअप के अन्य उत्पाद रोम छिद्रों को बंद कर सकते हैं, इससे त्वचा अधिक प्रभावित होती है और मिलिया आपकी त्वचा पर और फैल सकती है। इसलिए मेकअप की परत कम ही लगाएं। 
  6. इसे खरोंचे नहीं: मिलिया को मुहांसों की श्रेणी में नहीं रखा जा सकता है। यह डेड सेल्स का ही एक रूप होता है जो कुछ सप्ताह में अपने आप समाप्त हो जाता है। इसके कारण दर्द और जलन की समस्या नहीं होती है, इसलिए इसे खरोंच कर निकालने की कोशिश न करें।  खरोंचने से यह बदतर हो सकता है और इसके कारण त्वचा पर जलन और खुजली की समस्या भी हो सकती है। 
  7. नियासीन और बॉयोटिन के सप्लीमेंट: वैसे तो अभी इस पर शोध हो रहा है कि नियासीन(विटामिन बी3) और बायोटिन(विटामिन एच) की कमी के कारण ये समस्याएं होती हैं या नहीं, लेकिन इन शोधों में यह बात सामने आई है कि उपचार के दौरान विटामिन के इन सप्लीमेंट्स का सेवन करने से मिलिया की समस्या दूर होती है। खानपान के जरिए इनकी कमी दूर होती है। मिलिया की समस्या को दूर करने के लिए आप दवाई के अलावा खानपान से भी इस कमी को दूर कर सकते हैं, लेकिन अगर इनकी कमी त्वरित पूरा करना चाहते हैं तो नियासीन और बॉयोटीन के पूरक का सेवन करें। 
  8. त्वचा रोग विशेषज्ञ: अगर आपको लगता है कि मिलिया आपके चेहरे के लिए समस्या बन गई है, तो इसके लिए आप किसी कुशल त्वचा रोग विशेषज्ञ से संपर्क कर सकते हैं। अगर कुछ सप्ताह में मिलिया नहीं समाप्त हो रही है, तो चिकित्सक सूई के जरिए इसे त्वचा से निकाल सकते हैं। इसके लिए क्रायोथेरेपी भी की जा सकती है। क्रायोथेरेपी संवेदनशील क्षेत्रों जैसे-आंखो और भौहों के पास से मिलिया को निकालने के लिए की जाती है।
© Copyright 2013-2017 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BYBLOGGER.COM