Hot

Post Top Ad

Only Smartphone/Android
Click here to download


Only Smartphone/Android
Click here to download

loading...

14/12/2014

अपनी भावनायें कैसे व्यक्त करें Apni bhavnaye kaise vyakt kren

अपनी भावनायें कैसे व्यक्त करें Apni bhavnaye kaise vyakt kren, How to express your feelings.

ब्लॉगिंग अभिव्यक्ति का माध्यम है। पर सार्वजनिक रूप से अपने को अभिव्यक्त करना आप पर जिम्मेदारी भी डालता है। लिहाजा, अगर आप वह लिखते हैं जो अप्रिय हो, तो धीरे धीरे अपने पाठक खो बैठते हैं। 

यह समाज में इण्टरेक्शन जैसी ही बात है। भद्दा, भोंण्डा, कड़वा, अनर्गल या प्रसंगहीन कहना आपको धीरे धीरे समाज से काटने लगता है। लगभग वही बात ब्लॉग पर लागू होती है। सम्प्रेषण का एक नियम होता है कि आप कहें कम, सुनें अधिक। तीव्र भावनायें व्यक्त करने में आनन-फानन में पोस्ट लिखना, उसे एडिट न करना और पब्लिश बटन दबाने की जल्दी दिखाना – यह निहित होता है।
अन्यथा अगर आपमें तीव्र भावनायें हैं, आप पोस्ट लिखते और बारम्बार सोचते हैं तो एडिट कर उसके शार्प एजेज (sharp edges) मुलायम करते हैं। और तब आपसे असहमत होने वाले भी उतने असहमत नहीं रहते। मैने यह कई बार अपनी पोस्टों में देखा है। 

अपनी तीव्र भावनायें व्यक्त करने के लिये लिखी पोस्टों पर पब्लिश बटन दबाने के पहले पर्याप्त पुनर्विचार जरूरी है। कई बार ऐसा होगा कि आप पोस्ट डिलीट कर देंगे। कई बार उसका ऐसा रूपान्तरण होगा कि वह मूल ड्राफ्ट से कहीं अलग होगी। पर इससे सम्प्रेषण का आपका मूल अधिकार हनन नहीं होगा। अन्तर बस यही होगा कि आप और जिम्मेदार ब्लॉगर बन कर उभरेंगे। 

बिना विचारे जो लिखै सो पाछें पछिताय !
ब्लॉग बिगारै आपनो जगमें होत हँसाय
जग में होत हँसाय मिलेंगे थोडे पाठक
सत्य लिखोगे तो भी सब समझेंगे नाटक
विवेक सिंह यों कहें लिखो जी विचार करके
करो तोलकर व्यक्त भाव अपने अंदर के !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad

loading...