भारत के इतिहास में 17 दिसंबर Bharat ke itihas me 17 December

भारत के इतिहास में 17 दिसंबर Bharat ke itihas me 17 December, India's history, 17th December.

आज 17 दिसंबर है। कोई विशेष दिन नहीं लेकिन अगर भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में झाँक कर देखें तो आज का दिन भारतीय क्रांतिकारियों के जीवन का एक बड़ा ही महत्त्वपूर्ण दिन रहा है। आइये एक हलकी सी नजर डालते हैं:

1. आज के दिन की सबसे महत्त्वपूर्ण घटना रही: क्रांतिकारी राजेंद्र नाथ लाहिड़ी की शहादत। राजेंद्र नाथ लाहिड़ी एक बंगाली हिन्दू ब्राह्मण थे। इनका जन्म 23 जून 1901 को पबना जिले के मोहनपुर गाँव में हुआ, जो अब बांग्लादेश में है। दक्षिणेश्वर बम धमाके के केस में और उसके बाद 1925 के ऐतिहासिक "काकोरी काण्ड" में सक्रिय भूमिका निभाते हुए राजेंद्र नाथ, पंडित राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खान इत्यादि क्रांतिकारियों के साथ जेल गए। इन्हें आरोप साबित होने पर फांसी की सजा सुनाई गयी और 17 दिसंबर, 1927 को गोंडा की जिला जेल में इन्हें निर्धारित तिथि से 2 दिन पहले ही फांसी दे दी गयी।

2. आज ही के दिन 17 दिसंबर, 1928 को शहीद-ए-आज़म सरदार भगत सिंह, अमर शहीद शिवराम राजगुरु और शहीद सुखदेव थापर ने लाला लाजपत राय की हत्या के सबसे बड़े खलनायक पुलिस अफसर जेम्स सांडर्स को मौत के घाट उतार कर भारत माता के "लाल" की शहादत का बदला लिया था।

साभार:-  Naresh Jangra
© Copyright 2013-2017 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BYBLOGGER.COM