हे पावन परमेश्वर मेरे Hey paavan parmeshwar mere

हे पावन परमेश्वर मेरे Hey paavan parmeshwar mere, O my holy God.

मैली चादर ओढ के कैसे ,द्वार तुम्हारें आंऊ,
हे पावन परमेश्वर मेरे , मन ही मन शरमाऊ ॥


तुमने मुझको जग में  भेजा ,निर्मल देकर काया,
आकर के संसार में मैनें .इसको दाग लगाया ॥
जन्म जन्म की मैली चादर ,कैसे दाग छुडांऊ.....
मैली चादर ओढ के......................

निर्मल वाणी पाकर तुझसे ,नाम न तेरा गाया,
नैन मूंदकर हे परमेश्वर ,कभी न तुझको ध्याया ॥
मन वीणा की तारें टूटी. अब क्या गीत सुनाऊं.....
मैली चादर ओढ के........................

इन पैरों से चलकर तेरे, मंदिर कभी न आया,
जहाँ जहाँ हो पूजा तेरी , कभी न शीश झुकायां ॥
हे हरिहर मैं हार के आया ,अब क्या हार चढाऊं.....
मैली चादर ओढ के.........................

मैली चादर ओढ के कैसे ,द्वार तुम्हारें आंऊ,
हे पावन परमेश्वर मेरे , मन ही मन शरमाऊ ॥

एक टिप्पणी भेजें

© Copyright 2013-2017 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BYBLOGGER.COM