नेपाल और भारत में भूकंप का तांडव - Nepal aur Bharat me bhukamp ka tandav

Android apps:- 9 Apps
नेपाल और भारत में भूकंप का तांडव - Nepal aur Bharat me bhukamp ka tandav. Orgy of Earthquake in Nepal and India.

नेपाल के एक योग शिविर में गए बाबा रामदेव भी भूकंप का शिकार होने से बाल-बाल बचे। इन भूकंप के झटकों के बीच योगगुरु बाबा रामदेव भी नेपाल में फंस गए हैं।
हालांकि राहत की बात ये है कि वे वहां पूरी तरह सुरक्षित हैं। बाबा रामदेव भूकंप के वक्त एक पंडाल में मौजूद थे और उनके वहां से निकलते ही पंडाल गिर गया। 


सोशल मीडिया पर लोगों ने भूकंप से हुए नुकशान की खबरें शेयर की। लाहौर मोहम्मद साहब ने ट्‍वीट किया कि वे ऑफिस में थे तभी उन्हें भूकंप के तेज झटके महसूस हुए। खबरों के मुताबिक भूकंप से सबसे ज्यादा हानि की आशंका नेपाल में हुई है। इस भूकंप से हिमालय में बर्फ की चट्टान खिसकने की खबरें भी आ रही हैं। भारत के पाकिस्तान, बांग्लादेश में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए। दिल्ली और एनसीआर समेत उत्तर भारत के कई इलाकों में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। यूपी के भी कई इलाकों में यह झटके महसूस किए गए हैं। भूकंप का केंद्र नेपाल में था, जहां रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 7.4 मापी गई।

आइए जानें कि भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदा से कैसे निपटें - 
  1. सबसे पहले तो भूकंप आने पर तुरंत घर, ऑफिस या स्कूल से निकलकर सुरक्षित खुले मैदान में जाकर उल्टे लेट जाएं।
  2. बड़ी इमारतें, पेड़, खंभें आदि से यथासंभव दूर रहें। यह गिरकर बड़ा नुकसान कर सकते हैं और इनके गिरने से आपकी जान जा सकती है।
  3. लिफ्ट की बजाय सीढ़ियों का इस्तेमाल करें।
  4. भूकंप के तेज झटकों के दौरान दौड़ें कतई नहीं। इससे भूकंप का आप पर ज्यादा असर होगा। आप गिर सकते हैं।
  5. ऑफिस या घर के मजबूत फर्नीचर के नीचे घुस जाएं और उन्हें कसकर पकड़ लें ताकि झटकों से वह खिसके नहीं।
  6. गाड़ी में हैं तो खुले मैदान में गाड़ी रोकें और भूकंप रुकने तक इंतजार करें।
  7. 1070 नंबर डायल करें। पूरे देश में कहीं भी प्राकृतिक आपदा होने पर मदद के लिए इस नंबर पर कॉल कर सकते हैं। इस हेल्पलाइन पर फोन कर आप अपने प्रदेश और शहर के हेल्पलाइन का अलग नंबर भी ले सकते हैं।

Download apps:- 9 Apps
loading...

3 comments

Patanjali Yogpeeth emerged as the biggest NGO in the world to provide aid and relief to the victims of the most calamitous floods of the century in Bihar in 2008.

http://patanjalirahatkosh.com/

Reply

This tragic to see that Nepal will experience the ill effects of trasdi and numerous individuals will lose his beginning and end. For more information Please visit site: -http://www.patanjaliyogpeethnepal.org

Reply

Really your post a bad day for Nepal. Patanjali nepal aapda rahat kosh provide help to the locality and tourist also

Reply

एक टिप्पणी भेजें

© Copyright 2013-2016 Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BY BLOGGER.COM