लैला और मजनूं की सच्ची प्रेम कहानी - Laila aur Majnu ki sachchi prem kahani

True love story of Laila and Majnu. लैला और मजनूं की सच्ची प्रेम कहानी - Laila aur Majnu ki sachchi prem kahani.

सभी जानते है की लैला-मजनूं की प्रेम कहानी बहुत पुरानी है। अरबपति शाह अमारी के बेटे ने दमिश्क के मदरसे में नाज्द के शाह की बेटी लैला को देखा और पहली ही नजर में उसका दीवाना बन बैठा।


कैस की मुहब्बत ने लैला को भी दीवानी बना दिया और दोनों ही एक दुसरे पर मर मिटने के लिए तैयार हो गए. जब लैला के घर वालों को इस बात का पता लगा तो उन्हें लैला पर बहुत गुस्सा आया और उन्होंने लैला को घर में बंद कर दिया गया. लैला से ना मिल पाने के कारण कैस दीवानों की तरह मारा-मारा फिरने लगा. उसके इस पागलपन को देखकर लोग उसे 'मजनूं' के नाम से पुकारने लगे.
लैला के पिता के विरोध के कारण इनका विवाह नहीं हो सका। लैला मजनूं को अलग करने की लाख कोशिशें की गईं. फिर लैला की शादी किसी और से कर दी गई. मजनूं पागल हो गया और इसी पागलपन में उन्होंने कई कविताएं रचीं। लैला पति के साथ ईराक चली गई, जहां कुछ ही समय बाद बीमार हो गई और अंत में उसकी मृत्यु हो गई। बाद में लैला की कब्र के पास ही मजनूं की लाश भी बरामद हुई. मजनू ने अपनी कविता के तीन चरण यहीं एक चट्टान पर लिख रखे थे. लैला के नाम यह मजनू का आखिरी संदेश था.

उनकी मौत के बाद दुनिया ने जाना कि दोनों की मोहब्बत कितनी सच्ची थी. दोनों को साथ-साथ दफनाया गया ताकि इस दुनिया में न मिलने वाले लैला-मजनूं जन्नत में जाकर मिल सके.

एक टिप्पणी भेजें

© Copyright 2013-2017 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BYBLOGGER.COM