आइये पढ़ें शिव खेड़ा के अनमोल विचार - Aaiye padhen Shiv Khera ke anmol vichar

प्रिय दोस्त इस पोस्ट पर आप शिव खेड़ा के अनमोल विचार पढ़ सकते हो और यदि आप इनसे सहमत हो तो आप इन विचारों को अपने जीवन में धारण जरुर करें. इन विचारों को अपने दोस्तों और अन्य लोगों तक पहुँचाने के लिए इस पोस्ट को शेयर करें.

  • अगर आप सोचते हैं कि आप कर सकते हैं-तो आप कर सकते हैं !अगर आप सोचते हैं कि आप नहीं कर सकते हैं- तो आप नहीं कर सकते हैं !और किसी भी तरह से …आप सही हैं.!
  • अगर हम हल का हिस्सा नहीं हैं, तो हम समस्या हैं.
  • अच्छे लीडर्स और लीडर्स बनाने की चेष्ठा करते हैं, बुरे लीडर्स और फालोवार्स बनाने की चेष्ठा करते हैं.
  • आत्म-सम्मान और अहंकार का उल्टा सम्बन्ध है.
  • इन्स्पीरेशन  सोच  है जबकि मोटीवेशन कार्रवाई है.
  • एक देश नारे लगाने से महान नहीं बन जाता.
  • कभी भी दुष्ट लोगों की सक्रियता समाज को बर्वाद नहीं करती, बल्कि हमेशा अच्छे लोगों की निष्क्रियता समाज को बर्वाद करती है.
  • किसी डिग्री का ना होने दरअसल फायेदेमंद है. अगर आप इंजिनियर या डाक्टर हैं तब आप एक ही काम कर सकते हैं.पर यदि आपके पास कोई डिग्री नहीं है , तो आप कुछ भी कर सकते हैं.
  • चरित्र का निर्माण तब नहीं शुरू होता जब बच्चा  पैदा होता है; ये बच्चे के पैदा होने के  सौ  साल पहले से शुरू हो जाता है.
  • जब कभी कोई व्यक्ति कहता है कि वो ये  नहीं कर सकता है , तो असल में वो दो चीजें कह रहा होता है. या तो मुझे पता नहीं है कि ये कैसे होगा या मैं इसे करना नहीं चाहता.
  • जीतने वाले अलग चीजें नहीं करते, वो चीजों को  अलग तरह से करते हैं.
  • जीतने वाले लाभ देखते हैं, हारने वाले दर्द.
  • लोग इसकी परवाह नहीं करते हैं कि आप कितना जानते हैं, वो ये जानना चाहते हैं कि आप कितना ख़याल रखते हैं.
  • विपरीत परिस्थितियों में कुछ लोग टूट जाते हैं, तो कुछ लोग लोग रिकॉर्ड तोड़ते हैं.
  • सत्य का क्रियान्वन ही न्याय है.
  • हमारी बिजनेस से सम्बंधित समस्याएं नहीं होतीं , हमारी लोगों से सम्बंधित समस्याएं होती हैं.

एक टिप्पणी भेजें