बच्चे कैसे पहचाने की कुछ गलत होने वाला है - Bachche kaise pahchane ki kuchh galat hone vala hai

प्रिय मित्र आज के इस माहोल में लड़कियों की सुरक्षा बहुत ही खतरे में है इतना ही नहीं अब तो बालिकाओं के साथ ही नहीं बल्कि बालको के साथ भी इस तरह की घटनाएँ सामने आने लगी है इसलिए हमें अपने बच्चों (लड़का और लड़की) में सही और गलत को समझने की सोच पैदा करनी होगी.
हमें अपने बच्चो को खुलकर बताना होगा की वे कैसे समझ सकें की उनके साथ कोई कुछ गलत करने की सोच रहा है. जब उन्हें सही और गलत की परख हो जाएगी तो वो स्वयं अपने साथ होने वाली अनहोनी से बचने योग्य हो जाएँगे. ऐसा करके ही हम अपने बच्चों को सुरक्षित रख सकते है.


हमें अपने बच्चों को निम्नलिखित बातों से अवगत करवाना होगा:- Read More Posts
  1. यदि कोई उनके अंगो (मुख्य अंगो की जानकारी दें) को छूने की कोशिश करता है तो वे समझ ले की वह कुछ गलत करना चाहता है. ऐसा करने वाला कोई दोस्त, रिश्तेदार, स्कुल या ट्यूशन पर पढ़ाने वाला अध्यापक अथवा कोई अन्य भी हो सकता है.
  2. यदि कोई इन्सान बच्चे को किसी अलग जगह (एकांत स्थान पर या जहाँ कोई देख ना सकें) पर ले जाने के लिए कहें तो बच्चे को समझ लेना चाहिए की वह उसे किसी प्रकार का नुकशान पहुंचा सकता है.
  3. कोई भी अनजान इन्सान या घर के सदस्यों से अलग व्यक्ति अपनापन दिखाने की कोशिश करें तो बच्चे को उसकी बातों में नहीं आना चाहिए.
  4. यदि कोई किसी लड़की से कहें की वह उससे प्यार करता है और यह कहकर उसके शरीर को छूने की कोशिश करें तो लड़की को यह समझते देर नहीं लगनी चाहिये की वह कुछ गलत करने की कोशिश में है. क्योंकि प्यार का शरीर से कोई लेना - देना नहीं होता है. सच्चे प्रेमी शरीर को नहीं छुते. प्यार का नाम लेकर शरीर के अंगो को छूने वाला उसे नुकशान पहुंचा सकता है.
  5. यदि कभी भी बच्चे घर से बाहर जाएँ तो घर के किसी बड़े सदस्य को साथ जाना चाहिए.
  6. यदि कोई लगातार आप पर नजरें गाड़े हुए है या आपको महशुश होने लगे की कोई बार - बार आपको देख रहा है तो समझ ले की आप खतरे में पड़ सकते/सकती है.
  7. यदि कोई आपका पीछा कर रहा है तो वह आपका दोस्त नहीं दुश्मन है उससे बचें.
  8. यदि कोई आपको नशीली चीज खाने/पिने के लिए प्रेरित करें तो भी आपके साथ नशे की हालत में कुछ गलत हो सकता है इसलिए अनजान या जान पहचान वाले की इस तरह की कोई बात ना माने. Read More Posts
ऐसे में बच्चे को चाहिए की वो किसी ऐसी जगह ना जाएँ जहाँ वो अकेला पड़ जाएँ बच्चे को चाहिए की वो भीड़ में लोगो के बीच रहें यदि कोई उसे अलग जगह ले जाने की कोशिश करें तो बच्चे को शोर मचाना चाहिए और उसके इस व्यवहार के बारे में लोगो को बता दें. यदि कोई परिचित व्यक्ति (स्कुल में, ट्यूशन पे या पड़ोस में) ऊपर लिखी हरकते करने की कोशिश करें तो उसकी सारी बातें अपने घर वालों को बता दें ताकि समय रहते इस स्थिति को संभाला जा सकें. 

दोस्तों अपने बच्चों की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है हमें अपने बच्चों को निशंकोच सही और गलत को परखने की जानकारी देनी चाहिए. क्योंकि सांप निकल जाने के बाद लकीर पीटने से कोई फायदा नहीं होता है.

इस पोस्ट को जन - जन तक पहुँचाने के लिए इसे शेयर करना ना भूलें. *धन्यवाद* Read More Posts