सुरजा अपणी बहू नैं लेण ससुराल जा रह्या था - Haryanvi Jokes SMS

प्रिय दोस्त यदि आप हरयाणवी जोक्स पढ़ने के इच्छुक है तो आप इस पोस्ट पर अपनी इस इच्छा को पूरा कर सकते हो. क्योंकि हम आपके लिए हरयाणवी जोक्स और एस एम एस लेकर हाजिर हुए है. आप इस वेबसाइट पर दिए गए सभी जोक्स और एस एम एस बिना किसी शुल्क के पढ़ सकते हो....

आग तै कल बारह आळी गाडी में पीहर चली गई !! 

रमलू के पड़ौस में एक नई बहू आई थी । रमलू हुक्के की चिलम भरण का ओडा (बहाना) ले कै रोज उस घर में चला जाया करता । कुछ दिन पाच्छै बहू आपणै पीहर चली गई, रमलू नै इस बात का बेरा ना था ।

रमलू चिलम ले कै पहुंच ग्या अर इंघे-उंघे नै देख कै बुढ़िया तैं बोल्या - ताई, आग सै ?

ताई बोली - बेटा, आग तै कल बारह आळी गाडी में पीहर चली गई !!
**********************************

मैं तै बहू लेण आया था

एक बर की बात है अक सुरजा अपणी बहू नैं लेण ससुराल जा रह्या था। चाल्लण के टैम पर सासू उसतैं जवाहरी के नाम के 50 रुपिये देण लाग्गी तो सुरजा नाट ग्या| सास्सू बोल्ली- ले ले बेटा, घणे कोनीं । सुरजा फेर नाट ग्या।

धोरै खड़ी उसकी साली बोल्ली- ले ले नैं जीजा, घणे कित हैं, फेर तीन दर्जन केले भी तो ल्याया था।

साली की या सलाह सुणते ही सुरजा आग बबूला होते होए बोल्या- मैं आड़ै केले बेच्चण कोनी आया था, मैं तै बहू लेण आया था।