पढ़ें हरयाणवी जोक्स और एस एम एस भाग 5 Padhen Haryanvi Jokes aur SMS

प्रिय दोस्त यदि आप हरयाणवी जोक्स पढ़ने के इच्छुक है तो आप इस पोस्ट पर अपनी इस इच्छा को पूरा कर सकते हो. क्योंकि हम आपके लिए हरयाणवी जोक्स और एस एम एस लेकर हाजिर हुए है. आप इस वेबसाइट पर दिए गए सभी जोक्स और एस एम एस बिना किसी शुल्क के पढ़ सकते हो....

मन्नै तै लाग्गै सै चौधरण मर ली !!

एक बै एक जाट भाई अपनी एक नई रिश्तेदारी में चल्या गया, साथ में उसका नाई भी था । नई रिश्तेदारी थी, खातिरदारी में फटाफट गरमा-गरम हलवा हाजिर किया गया । दोनूं सफर में थक रहे थे, भूख भी करड़ी लाग रही थी ।

हलवा आते ही दोनूंआं नै चम्मच भरी और मुंह में गरमा-गरम हलवा धर लिया । ईब इतना गरम हलवा ना निगल्या जा और ना बाहर थूक्या जा ! बुरा हाल हो-ग्या, आंख्यां में आंसू आ-गे ।

नाई ने हिम्मत करी और बोल्या - "चौधरी, के हुया ?"

जाट बोल्या - "भाई, जब घर तैं चाल्या था, तै थारी चौधरण बीमार सी थी, बस उस की याद आ-गी" ।

नाई की आंख्यां में भी पाणी देख कै जाट बोल्या - "ठाकर, तेरै के हुया ?"

नाई बोल्या - चौधरी, मन्नै तै लाग्गै सै चौधरण मर ली !!

© Copyright 2013-2017 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BYBLOGGER.COM