कोशिश करनें वालों की कभी हार नही होती Kaushish karne walon ki kabhi haar nahi hoti

प्रिय दोस्त, जो लोग मेहनत करते है वो कभी हार नहीं सकते है।  हार उनकी ही होती है जो मेहनत नहीं करते है। ऐसा जरुर हो सकता है कि हमें किसी कार्य में सफलता थोड़े समय में अर्थात थोड़ी मेहनत से ही प्राप्त हो जाती है और कभी - कभी हमें सफल होने के लिए ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है अर्थात उस मेहनत का फल प्राप्त होने में ज्यादा समय लग जाता है।

असफल केवल वो लोग ही होते है जो मध्य में ही हिम्मत हार कर अपने कदम पीछे हटा लेते है अर्थात अपने कार्य को बीच में ही छोड़ देते है। इस विषय पर आने के बाद मुझे बचपन में पढ़ी हुई “श्री हरिवंशराय बच्चन” जी द्वारा लिखी गई कविता याद आ रही है जो कुछ नया करने को प्रेरित करती है, कुछ करने के बाद रुकना नहीं , सिर्फ और सिर्फ मेहनत करते जाओ, बस यह कहती है।

श्री हरिवंशराय बच्चन जी द्वारा लिखी गई कविता:-

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है ।
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है ।
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है ।
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में ।
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो ।
जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम ।
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती !

रचयिता :- श्री हरिवंशराय बच्चन जी