क्या आप जानते हो रक्तदान के कितने है फायदे Kya aap jante ho rakt dan se kitne hai fayde

क्या आपने कभी रक्तदान किया है यदि नहीं तो यह अवश्य करना चाहिए क्योंकि इसके बहुत फायदे है। रक्तदान एक जीवन दान है। आपके द्वारा दान किए गए रक्त से कई लोगों का जीवन बचाया जा सकता है। किसी को नवजीवन देकर जो आत्मिक आनन्‍द मिलता है उसका न तो कोई मूल्‍य ऑंका जा सकता है न ही उसे शब्‍दों में व्‍यक्‍त किया जा सकता है। बदले में आपको ढेर सारी दुआएं मिलती हैं।

रक्तदान का महत्व हमें उस वक्त समझ आता है, जब हमारा कोई अपना प्रियजन हॉस्पिटल में रक्त के लिए जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहा होता है। हम परेशान होते हैं कि काश कोई व्यक्ति हमारे अपने की जिंदगी के लिए रक्त दे दे और उसे बचा ले। जब रक्तदान का इतना अधिक महत्व है और हमें इसका कोई नुकसान भी नहीं होता तो क्यों न हम भी रक्तदान करें।

सबसे अच्छी बात यह है कि रक्त देने से जरूरत मंद लोगों को जीवन दान मिलता है, बल्कि रक्तदाता को स्वास्थ्य लाभ भी प्राप्त होता हैं। रक्त में कई जीवनरक्षक तत्व होते हैं जो विभिन्न प्रकार की बीमारियों व चोटों को ठीक करने में मददगार होते हैं। कई लोगों के लिये रक्तदाता उनकी लाइफलाइन होते हैं। रक्तदान करने से किसी के जीवन को करीब से छूने का सुंदर अनुभव प्राप्त होता है। यह वो अनुभव है, जो शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है। 18 से 60 वर्ष की आयु के स्वास्थ्य व्यक्ति जिनका वजन 50 किलो से ऊपर होता है, वो 450 मिली लीटर रक्त दान कर सकते हैं। पुरुष तीन महीने में एक बार और महिलाएं चार महीने में एक बार रक्त दान कर सकती हैं।

कौन कर सकता है रक्तदान-
  1. सामान्यतया उसी व्यक्ति का रक्त लिया जाता है जिसका स्वास्थ्य ठीक हो।
  2. कोई भी स्वस्थ्य व्यक्ति जिसकी उम्र 18 से 60 साल के बीच हो, और 45 किलोग्राम से अधिक वजन का हो।
  3. जिसे एचआईवी, हेपाटिटिस बी या सी जैसी बीमारी न हो, वह रक्तदान कर सकता है।
  4. कम से कम 12 सप्ताह पहले तक रक्त ना दिया हो एवं पिछले 12 महीने में रक्त ना लिया हो।
  5. रक्त देने के स्थान पर किसी तरह का निशान या घाव ना हो।
  6. हीमोग्लोबिन 12.5 से अधिक हो।
  7. शरीर के अन्य अंग भी नियमित काम कर रहे हो।
  8. रक्त देने से पहले भर पेट नाश्ता/ भोजन किया हुआ हो। 
 रक्तदान स्वास्‍थ्‍य के लिए फायदेमंद-
  1. रक्तदान करने पर एक कार्ड दिया जाता है,जिसे वालियंटरी डोनर कार्ड कहते हैं। आवश्यकता पड़ने पर इसके द्वारा रक्त वापस भी लिया जा सकता है।मनुष्य के शरीर में रक्त बनने की प्रक्रिया हमेशा चलती रहती है, और रक्तदान से कोई भी नुकसान नहीं होता है।
  2. एक बार में 350 मिलीग्राम रक्त दिया जाता है, उसकी पूर्ति शरीर में चौबीस घण्टे के अन्दर हो जाती है, और गुणवत्ता की पूर्ति 21 दिनों के भीतर हो जाती है।
  3. जो व्यक्ति नियमित रक्तदान करते हैं उन्हें हृदयसम्बन्धी बीमारियां होने का खतरा कम रहता हैं।
  4. हमारे रक्त की संरचना ऐसी है कि उसमें समाहित रेड ब्लड सेल तीन माह में स्वयं ही मर जाते हैं,लिहाज़ा प्रत्येक स्वस्थ्य व्यक्ति तीन माह में एक बार रक्तदान कर सकता है।
  5. आधा लीटर ख़ून तीन लोगों की जान बचा सकता है।
कौन नही कर सकता है रक्‍तदान -
  1. जिन्हें आगे आने वाले 12 घंटों में लंबी यात्रा, वायु यात्रा करनी हो या किसी तरह का भारी काम करना हो।
  2. श्वास की बीमारी जैसे लगातार खांसी, जुखाम, गला खराब, या लंबे समय से एंटीबायोटिक ले रहे हों या अस्थमा के मरीज जो स्टीरइड ले रहे हों।
  3. किसी तरह का कोई मेजर/ माइनर ऑपरेशन हुआ हो।
  4. हृदय रोगी जो एंजाइना, ब्लॉकेज के मरीज हो।
  5. अंत:स्रावी ग्रंथियों के रोगियों से रक्त नहीं लिया जाता।
  6. डायबिटीज के रोगी जो इंसुलिन लेते हो।
  7. किडनी, पाचनतंत्र के रोगी रक्तनदान नहीं कर सकते।
  8. हेपेटाइटिस, एचआईवी एड्स, सिफिलिस, टीबीआदि के रोगी रक्त दान नहीं कर सकते।
  9. बेहोशी या मिर्गी आती हो, या जो पिछले 3 वर्षो में पीलिया हुआ हो।
  10. जो एस्प्रीन, एन्टीथायरॉइड, एन्टीबायोटिक, स्टीरइड आदि दवाइयां ले रहे हों।
  11. वह महिलाएं जो पिछले 6 महीनों में गर्भवती हुई हो या स्तनपान कराती हो।
रक्त दान कहॉं करें?
रक्‍तदान किसी भी लाईसेन्‍स युक्‍त ब्‍लड बैंक में किया जा सकता है। यह सुविधा सभी जिला-चिकित्‍सालयों में भी उपलब्‍ध है। राज्‍य के सरकारी 43 एवं निजी क्षेत्र में 18 ब्‍लड बैंक लाईसेन्‍स युक्‍त है। इसके अलावा मान्‍यता प्राइज़ एजेन्सियों जैसे रोटरी क्‍लब, लायंस क्‍लब आदि द्वारा समय-समय पर रक्‍तदान शिविरों का आयोजन किया जाता है। इनमें से किसी भी अधिकृत सील पर आप स्‍वैच्‍छा से निश्चित होकर रक्‍तदान कर सकते हैं।