loading...

0
जाने कितने झूले थे फाँसी पर ,
कितनो ने गोली खाई थी ..
क्यू झूठ बोलते हो साहब,
कि चरखे से आज़ादी आई थी ..
======================


उस मासूम बच्चे की मासूमियत तो देखो उसकी माँ उसे पीट रही है,
और वो मदद के लिए माँ माँ चिल्ला रहा है।
======================

कल जो गैरत के लिये , अपनी बहन की पढाई के खिलाफ़ था,
आज बीवी के इलाज के लिये , लेडी डॉक्टर ढूंढता है।
======================

बड़ी अजीब होती है ये मौत भी,
कभी कभी ये वहां मिलती है..
जहां लोग जिन्दगी की दुआ मांगने जाते हैं ..
======================

किसी भी पेड़ के कटने का आज “क़िस्सा” न होता,
अगर “कुल्हाड़ी” के पीछे, “लकड़ी” का हिस्सा न होता ||
======================

गठरी बाँध बैठा है , अनाड़ी,
साथ जो ले जाना था , वो कमाया ही नहीं।
======================

कफ़न भी क्या चीज़ जिसने बनाया उसने बेच दिया,जिसने खरीदा उसने इस्तेमाल नही किया,
जिसने इस्तेमाल किया उसे मालूम ही नही...

एक टिप्पणी भेजें

loading...


Free App to Make Money




Free recharge app for mobile
Click here to download
 
Top