आइये कुछ दिल को छूने वाले हिंदी मैसेज पढ़ें aaiye kuchh dil ko chhune vale hindi sandesh paden

जाने कितने झूले थे फाँसी पर ,
कितनो ने गोली खाई थी ..
क्यू झूठ बोलते हो साहब,
कि चरखे से आज़ादी आई थी ..
======================


उस मासूम बच्चे की मासूमियत तो देखो उसकी माँ उसे पीट रही है,
और वो मदद के लिए माँ माँ चिल्ला रहा है।
======================

कल जो गैरत के लिये , अपनी बहन की पढाई के खिलाफ़ था,
आज बीवी के इलाज के लिये , लेडी डॉक्टर ढूंढता है।
======================

बड़ी अजीब होती है ये मौत भी,
कभी कभी ये वहां मिलती है..
जहां लोग जिन्दगी की दुआ मांगने जाते हैं ..
======================

किसी भी पेड़ के कटने का आज “क़िस्सा” न होता,
अगर “कुल्हाड़ी” के पीछे, “लकड़ी” का हिस्सा न होता ||
======================

गठरी बाँध बैठा है , अनाड़ी,
साथ जो ले जाना था , वो कमाया ही नहीं।
======================

कफ़न भी क्या चीज़ जिसने बनाया उसने बेच दिया,जिसने खरीदा उसने इस्तेमाल नही किया,
जिसने इस्तेमाल किया उसे मालूम ही नही...

एक टिप्पणी भेजें

© Copyright 2013-2017 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BYBLOGGER.COM