पेट में गैस बनने के कारण और इसका निवारण Pet me gais banane ke karan aur iska nivaran

उदर-वायु / पेट की गैस / अधोवायु एक आम बिमारी है यह कभी न कभी हर किसी को हो जाती है। पेट में गैस बनने के कई कारण हो सकते हैं जिसके बारे में हम यहां आज चर्चा करेगें। इसे पेट में रोकने से कई बीमारियां भी हो सकती हैं, जैसे एसिडिटी, कब्ज, पेट दर्द, सिर दर्द, जी मिचलाना, बेचैनी आदि।


पेट में गैस होने के कारण -
  • बैक्टीरिया का पेट में ओवरप्रोडक्शन होना
  • जिस आहार में बहुत ज्यादा फाइबर होता है उसका सेवन करना
  • मिर्च-मसाला, तली-भुनी चीजें ज्यादा खाने से
  • पाचन संबधी विकार होने से
  • बींस, राजमा, छोले, लोबिया, मोठ, उड़द की दाल, फास्ट फूड, ब्रेड आदि खाने से
  • किसी - किसी को दूध पिने या भूख से ज्यादा खाने से भी हो सकती है।
  • खाने के साथ कोल्ड ड्रिंक लेने से क्योंकि इसमें गैसीय तत्व होते हैं।
  • बासी खाना खाने से 
  • खराब पानी पीने से।
गैस के कुछ घरेलू उपचार -
  • भोजन के साथ सलाद के रूप में टमाटर का प्रतिदिन सेवन करना लाभप्रद होता है। यदि उस पर काला नमक डालकर खाया जाए तो लाभ अधिक मिलता है। पथरी के रोगी को कच्चे टमाटर का सेवन नहीं करना चाहिए। 
  • 1/2 चम्मच सूखा अदरक पाउडर [सौंठ] लें और उसमें एक चुटकी हींग और सेंधा नमक मिला कर एक कप गरम पानी में डाल कर पीएं। 
  • गैस के कारण सिर दर्द होने पर चाय में पिसी कालीमिर्च डालें। वही चाय पीने से लाभ मिलता है। 
  • कुछ ताजा अदरक स्लाइस की हुई नींबू के रस में भिगो कर भोजन के बाद चूसने से राहत मिलेगी। 
  • पेट में या आंतों में ऐंठन होने पर एक छोटा चम्मच अजवाइन में थोड़ा नमक मिलाकर गर्म पानी में लेने पर लाभ मिलता है। बच्चों को अजवायन थोड़ी दें। 
  • भोजन के एक घंटे बाद 1 चम्मच काली मिर्च, 1 चम्मच सूखी अदरक और 1 चम्मच इलायची के दानो को 1/2 चम्मच पानी के साथ मिला कर पिएं। 
  • वायु समस्या होने पर हरड़ के चूर्ण को शहद के साथ मिक्स कर खाना चाहिए। 
  • अजवायन, जीरा, छोटी हरड़ और काला नमक बराबर मात्रा में पीस लें। बड़ों के लिए दो से छह ग्राम, खाने के तुरंत बाद पानी से लें। बच्चों के लिए मात्रा कम कर दें। आप यह पोस्ट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट नरेशजांगड़ा डॉट ब्लागस्पाट डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।
  • अदरक के छोटे टुकड़े कर उस पर नमक छिड़क कर दिन में कई बार उसका सेवन करें। गैस परेशानी से छुटकारा मिलेगा, शरीर हलका होगा और भूख खुलकर लगेगी। 
  • वज्रासन करें: खाने के बाद घुटने मोड़कर बैठ जाएं। दोनों हाथों को घुटनों पर रख लें। 5 से 15 मिनट तक करें। 
  • गैस पाचन शक्ति कमजोर होने से होती है। यदि पाचन शक्ति बढ़ा दें तो गैस नहीं बनेगी। योग की अग्निसार क्रिया से आंतों की ताकत बढ़कर पाचन सुधरेगा।

एक टिप्पणी भेजें

© Copyright 2013-2017 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BYBLOGGER.COM