पुरुषों के प्राइवेट पार्ट के रोग और उनका इलाज Purushon ke jananang ke rog aur unka ilaz

पुरुषों के प्राइवेट पार्ट के रोग और उनका इलाज Purushon ke jananang ke rog aur unka ilaz - पुरुषों में भी औरतों की तरह प्राइवेट पार्ट में कोई रोग हो सकता है लेकिन औरतों और पुरुषों में अलग - अलग रोग पाएं जाते है अगर सही समय पर पता चल जाये तो इलाज़ और उपचार संभव है। लेकिन उपचार ना मिलने से परिणाम बेहद गंभीर हो सकतें है। इसलिए इसमें किसी भी प्रकार की अनदेखी या शर्म ना करें

 

पुरुषों में यह लक्षण दिखाई देते है-
  • प्राइवेट पार्ट से पीप बहना
  • पेशाब के समय जलन
  • प्राइवेट पार्ट पर चिट्टे होना
  • प्राइवेट पार्ट पर फोड़े होना
  • प्राइवेट पार्ट और आस पास गाँठ आना
  • सूजन और खुजली होना
  • संबंध बनाने के दौरान दर्द
  • प्राइवेट पार्ट पर मस्सा
  • प्राइवेट पार्ट पर नागिन, बारीक़ पानी भरी फोडिया आना, आदि
सावधानियां - 
  • प्राइवेट पार्ट को अच्छे तरीके से हलके गर्म पानी धोएं
  • धोने के बाद साफ़ कपड़े से पोंछकर सुखाएं। प्राइवेट पार्ट पर और इसके आस - पास सरसों का तेल लगाएँ।
  • ढीले कपडे धारण करें। 
  • प्राइवेट पार्ट पर या इसके पास पानी या पसीने से नमी हो तो किसी मुलायम कपड़े से अच्छी प्रकार से साफ़ करें।
  • अंडरवियर (Underwear) समय - समय पर बदलते रहें। एक ही अंडरवियर (Underwear) लगातार एक दिन से ज्यादा न पहने और दोबारा पहनने से पहले इसकी अच्छे से धुलाई करें।
इलाज -

तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर को दिखाएँ और इलाज शुरू करवाएं। जब तक इलाज पूरा ना हो जाएँ, बीच में ही दवाई लेना ना छोड़े। 

एक टिप्पणी भेजें

© Copyright 2013-2017 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BYBLOGGER.COM