घर में सुख समृद्धि रखने वाले उपहार Ghar me sukh shanti samridhi rakhen vale uphar

घर में सुख-समृद्धि के लिए कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताया गया हैं, जो घर की महिलाओं को देने से घर में शांति और उन्नति बनी रहती है। पंडित रामप्रशाद के अनुसार जिस घर में वस्त्र, आभूषण और मधुर वचन से स्त्री का सम्मान किया जाता है, उस घर पर भगवान हमेशा प्रसन्न रहते है। किंतु जिस घर में इनका सम्मान नहीं होता, उस कुल में सब कर्म निष्फल होते हैं।

हम सब भी ये जानतें है कि हमारे हिन्दू धर्म में महिलाओं को पूजनीय माना जाता है। आइये हम पंडित रामप्रसाद के शब्दों से जानते है कि औरत को खुश करने के लिए उसे अच्छे वस्त्र और आभूषण देने पर वे किस प्रकार ख़ुश होती हैं और इसका हमारे जीवन में क्या योगदान है। इनका वर्णन निचे इस प्रकार से है :-


  • वस्त्र :- वस्त्र यानी कपड़े। सजना-सवरना, श्रृंगार करना ये हर प्रकार की महिलाओं को सबसे प्रिय होता है। पंडित रामप्रशाद के अनुसार, जिस घर के पुरुष अपनी पत्नी, माता या बहन को अच्छे वस्त्र प्रदान करते हैं, उस घर पर भगवान हमेशा प्रसन्न रहते हैं। ऐसे घर में हमेशा सुख-शांति बनी रहती है और सभी कामों में सफलता मिलती है। स्त्री को घर की लक्ष्मी माना जाता है, अगर महिलाएं गंदे या मैले कपड़े पहन कर रहती हैं या घर के पुरुष अपनी पत्नी, मां या बहन को समय-समय पर अच्छे वस्त्र नहीं प्रदान करते तो ऐसे घर पर लक्ष्मी रूठ जाती है।
  • आभूषण :- आभूषण यानी गहने। गहने महिलाओं की सबसे प्रिय वस्तुओं में से एक है। जिस घर की महिलाएं खुश रहती हैं, वहां देवताओं का निवास माना जाता है। हर मनुष्य को अपने घर की महिलाओं को सुंदर गहने उपहार में देना चाहिए। जिस घर की महिलाएं अच्छे कपड़े और गहनों से श्रृंगार करती है, वहां कभी दरिद्रता नहीं रहती। ऐसे घर में हमेशा खुशहाली और मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है
  • मधुर वचन :- हमारे हिन्दू धर्म में महिलाओं को पूजनीय माना जाता है। कई ग्रंथों और पुराणों में महिलाओं का सम्मान करने की बात कही गई है। पंडित रामप्रशाद के अनुसार, जिस घर में महिलाओं से बुरी तरह से बात की जाती है या उनका सम्मान नहीं किया जाता, ऐसे घर में भगवान भी नहीं रहते। स्त्रियों का सम्मान न करने वाले मनुष्य को हर समय किसी न किसी परेशानी का सामान करना ही पड़ता है।
पंडित रामप्रशाद का सभी को यह संदेश है कि हर मनुष्य को हमेशा महिलाओं का सम्मान करना चाहिए और अपने घर की स्त्रियों के साथ हर समय प्रेम और आदर से ही व्यवहार करना चाहिए।

एक टिप्पणी भेजें

© Copyright 2013-2017 - Hindi Blog - ALL RIGHTS RESERVED - POWERED BYBLOGGER.COM