For Smartphone and Android
Click here to download

Breaking News

पेट रोग होने के कारण और परहेज Pet ke rog hone ke karan aur parhej

आप हर रोज ये मत सोचिये कि हम तो ठीक है क्योंकि जिस खाने की आदत हम बना रहे है अगर वह सम्पूर्ण आहार नहीं है तो आप जल्दी ही पेट के रोगों को न्योता दे रहे हैं. आइये जानते कुछ कारण जिनसे पेट के रोग पैदा होते हैं और कुछ परहेज जो आपको इनसे जल्दी छुटकारा पाने में मदद करते है...
पेट रोग होने के कारण -
  • यदि हम पाद मारने से शर्माते या कतराते हैं तो इससे हमारे शरीर का पाचनतंत्र खराब होने लगता है । खुल कर पादने में शरमाना नहीं चाहिए ।
  • इस तरह की तकलीफ अमूमन ज़्यादा गरम और तेज मसालों वाला खाना खाने से होती है। जो आज कल हर घर या पार्टी में बनता है ।
  • अधिक मानसीक तनाव से भी यह तकलीफ हो सकती है। जिसे हम सही खा पी नहीं पाते ।
  • दाँत में से फंसा खाना निकालने से या सख्त ब्रश से दाँत साफ करने से ज़ख्म लग जाने से भी मुंह में छाले पड़ सकते हैं। और हम खाने को ठीक तरीके से चबा कर नि खा पाते
  • दाँत और मसूड़ों की सही सफाई ना रखने पर भी मुंह में बैक्टीरिया डेरा डाल सकते हैं। जो पेट में खाने के जरिये पहुँच कर नुकसान पहुंचाते हैं ।
  • कई बार पेट ठीक से साफ न होने के कारण भी पेट में गर्मी और गैस जमा होने से मुंह में छाले पड़ते हैं।
  • शरीर में vitamin B की कमी हो जाने पर भी पेट खराब हो जाता है।
  • पाचनतंत्र की खराबी और कब्ज से भी मुंह में छाले पड़ सकते है, और जीवा पर दर्द भरे दाने उभर आते है, जिनमें सूजन के कारण दर्द भी रहता है।
पेट के रोग होने पर परहेज -
  • सबसे पहले शराब , धूम्रपान और खैनी गुटखा खाते है, तो तुरंत खाना बंद करें।
  • यदि आप तीखा और ताला हुआ मसालेदार खाना के शोकिन है तो उसे कम कर दें।
  • कम से कम दिन में दो बार ब्रश करें। (सुबह उठने के बाद और सोने के पहले।
  • पानी अधिक से अधिक मात्रा में पीजिए।
  • तनाव कम करने का उपाय करें।
  • ब्रश हमेशा मुलायम धागों वाला ही ईस्त्माल करें। (ताकि मसूड़े छिलें नहीं।)
  • कम्प्युटर के सामने कम बैठें। और गरम वातावरण (धूप) में कम जाएं।
  • मुंह में दुर्गन्ध और मसूड़ों में सूजन रहती हों तो उसका तुरंत ईलाज करें।
  • विटामिन बी कॉम्प्लेक्स की गोली भी खा सकते हैं। (Doctor की सलाह से)
  • जब तक ठीक न हों तब तक अधिक ठंडी और गरम चीजे खाना बंद करें।
अंत में,  मैं कहना चाहूँगा कि आप इन नुस्खों को अपना कर अपने पेट के रोग ठीक कर सकते हैं। किन्तु किसी भी सलाह को अपनाने से पहले किसी डॉक्टर या आयुर्वेदिक विशेषज्ञ की सलाह लेना बेहतर होगा।

कोई टिप्पणी नहीं