0
अगर आप गलत दिशा में सोने की वजह से होने वाली शारीरिक तकलीफों से बचना चाहते हैं तो आपको अपना सिर दक्षिण की ओर और पैर उत्तर की ओर रखना चाहिए। आप को इसका कारण भी पता होना चाहिए, आप में से ज्यादातर लोग यह जानते होंगे की पृथ्वी एक विशालकाय चुम्बक की तरह काम करता है, इसकी चुम्बकीय रेखा उत्तर से दक्षिण की ओर प्रवाहित होती  है।


शरीर भी एक चुम्बक की तरह काम करता है जिसमे चुम्बकीय रेखा सिर से पाँव की ओर प्रवाहित होती है।
दो चुम्बक के विपरीत ध्रुव एक दूसरे को अपनी ओर खीचते हैं, इसलिए सिर दक्षिण में रख कर सोने  से शारीरिक चुम्बक, पृथ्वी के चुम्बक के अनुकूल दिशा में होती है। इससे आपका स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है।
इसके विपरीत दिशा में सोने से शरीर को काफी तकलीफ उठानी पड़ती है।  इसलिए कभी भी उत्तर दिशा में सिर रखकर नहीं सोना चाहिए।

बहुत सारे लोगों का यह मानना है कि उत्तर की ओर सिर रखने से शारीरिक तकलीफो के साथ आर्थिक मुसीबतें भी आती है, आर्थिक मुसीबत आने का कोई वैज्ञानिक तथ्य नहीं है। अगर पूर्व या पश्चिम की ओर सिर रखकर सोना पड़े तो कोशिश करनी चाहिए कि सिर को पूरब की तरफ रखें, ऐसा माना जाता है कि पश्चिम की ओर सिर रखने पर दिमाग अशांत रहता है। पूर्व की दिशा में सोने से बुद्धि का विकास होता है।

एक टिप्पणी भेजें

 
Top