अंडमान निकोबार द्वीप समूह के पर्यटन स्थल - Andaman Nicobar Dip Samuh Ke Prayatan Sathal

जनवरी 04, 2017
अंडमान निकोबार द्वीप समूह के पर्यटन स्थल - Andaman Nicobar Dip Samuh Ke Prayatan Sathal - Andaman and Nicobar Islands In Hindi - अंडमान निकोबार द्वीप समूह भारत के सात केंद्रशाषित प्रदेशो में से एक है जो बंगाल की खाड़ी में स्तिथ द्वीपों का एक समूह है | यह केन्द्र्शषित प्रदेश उत्तर में इंडोनेशिया और दक्षिण में थाईलैंड और म्यांमार के द्वीपों से अंडमान सागर द्वारा अलग है | यह प्रदेश दो द्वीपों के समूह अंडमान द्वीप और निकोबार द्वीप से मिलकर बना हुआ है |


अंडमान निकोबार द्वीप समूह के दर्शनीय स्थल Tourist Places of Andaman and Nicobar Islands

सेल्युलर जेल - पोर्ट ब्लेयर के समुद्र तट के पास हमारे देश का राष्ट्रीय स्मारक सेल्युलर जेल है जिसे 1896 में अंग्रेजो के शाषनकाल में बनवाना शूर किया गया था और 1906 में ये जेल बनकर तैयार हो गयी थी | सात भुजाओ के आकार की निर्मित ये जेल तीन मंजिला है | इसी जेल में भारत के देशभक्त स्वंतन्त्रता सैनानियो और क्रांतिकारियों को असहनीय यातनाये दी जाती थी | इस जेल में कुल 698 एकांत कोठरिया है इसलिए इसका नाम सेल्युलर जेल रखा गया है | इस जेल में कोठरिया इस तरीके से बनी हुयी है कि जेल में रहते हुए कोई भी कैदी दुसरे कैदी को नही देख सकता है | इस इमारत का प्रत्येक भवन तीन मंजिला है |

सेल्युलर जेल में वीर सावरकर , गणेश दत्त सावरकर , बटुकेश्वर दत्त सहित अनेको क्रांतिकारियों को भीषण यातनाये दी जाती थी | इन देश भक्तो को इस जेल में कोल्हू के बैल की तरह तेल निकालने के लिए जोता जाता था और प्रत्येक कैदी को एक निश्चित मात्रा में तेल निकालने के लिए जोता जाता था | यहा पर उनसे मजदूरी करवाई जाती थी | यहा पर खाने पीने के लिए भी उचित व्यवस्था नही थी और सिर्फ दो पानी प्रतिदिन पीने के लिए दिया जाता था और सडा गला भोजन खाने के लिए दिया जाता था जिसके कारण कई कैदी बीमारी के कारण मर जाते थे | जेल के परिसर में फांसी घर और बलि वेदी भी है |

आजादी के कुछ वर्ष पहले ही इस जेल में कैदियों को रखना बंद कर दिया गया था और आजादी के बाद ये जेल बिलकुल बंद हो गयी थी | 1979 में मोरारजी देसाई के शाषनकाल में इस जेल को राष्ट्रीय स्मारक में तब्दील कर दिया गया | 1985 में ज्ञानी जेल सिंह ने इस जेल को राष्ट्र को समर्पित बताकर एक राष्ट्रीय पवित्र तीर्थ स्थल बताया | इसके बाद से इस जेल में कुछ मुलभुत सुधार कर एक संग्रहालय बनाया गया जिसमे इस जेल में रहने वाले हर कैदी का विवरण बताया गया | इस जेल में उन सभी देशभक्तों के चित्र टंगे हुए है जो यहा पर आमानवीय यातनाये सहते थे जिसमे से कई शहीद भी हो गये थे यहा पर प्रतिदिन शाम को 6 से 7 के बेच में हिंदी में और 8 बजे अंग्रेजी में Light and Sound Show आयोजित किया जाता है जिसमे शहीदों की पुरी कहानी आपको सुनाई जाती है |

बाथम की आरा मिल बाथम की आरा मिल एशिया के सबसे बड़ी और पुरानी मिल है | यहा पर कई प्रकार की लकडिया काटकर जहाज द्वारा लाई जाती है | पानी में भिगोकर क्रेन द्वारा इन्हें मिल में लाया जाता है |

सामुद्रिक एक आदिवासी वस्तु संग्रहालय इस समुद्री संग्रहालय में समुद्र में पायी जाने वाली वस्तुओ और जीवो का अच्छा संग्रह है | इसी प्रकार यहा के आदिवासी संग्रहालय में आदिवासी लोगो द्वारा उपयोग की जाने वाली वस्तुए , बर्तन , अस्त्र शस्त्र आदि दर्शनीय वस्तुए देखने को मिलती है |

जाली बॉय पोर्ट ब्लेयर से बस द्वारा बंदुर होकर यहा जाया जा सकता है | यहा का मेरी नेशनल पार्क देखने लायक है | जाली बाय बोट द्वारा जाया जा सकता है | बोट के तल में पारदर्शी ग्लास लगा होता है जिससे समुद्री जीवो ,रंगीन मछलियो और वनस्पतियों को देखने का आनन्द मिलता है | यहाँ पर किराये का छ्श्मा लेकर तैरने का भी आनन्द लिया जा सकता है |

Havelock Island हेवलोक टापू - यहा पर नौका विहार का आनन्द लेने के लिए पर्यटक जरुर आते है | हेवलोक का राधानगर नामक समुद्र तट बड़ा ही मनोरम है जहा पर समुद्र की गरजती लहरों पर तैरने का आनन्द लिया जा सकता है | रात्री में ठहरने के लिए पोर्ट ब्लेयर में 200 से 300 रूपये में हॉलिडे होम भी आरक्षित करवा सकते है | 

वाइपर टापू - सन 1967 में बोल्ड ब्लेयर यहा पर वाईपर जहाज से इस टापू पर आये थे इसलिए इसे वाइपर टापू कहा जाता है | यहा पर बनी जेल में एक ही सांकल से 6-6 कैदियों को बांधकर रखा जता है | सेल्युलर जेल बनने से पहले महिला कैदियों को इसी जेल में रखा जाता था और यातनाये दी जाती थी | लार्ड केम्प की हत्या करने वाले शेर अली खां को यही फांसी दी गयी थी | लाल रंग के ये इमारत अब खंडहर है

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »
loading...


Free App to Make Money




Free recharge app for mobile
Click here to download