पिछले वैलेंटाइन डे पर आस पास की कालोनी में ऐसे ही 20 कार्ड भेजे थे - Dhandhe me sab jayaj hai

आपको अच्छे से याद होगा रामायण में बाली नाम एक पात्र था. जो भी बाली के सामने जाता था तो उसकी आधी ताकत बाली में चली जाती थी और बाली दुसरे इन्सान की अपेक्षा ज्यादा ताकतवर हो जाता था.

बिलकुल ऐसा ही कुछ इस युग में मेरे साथ भी हो रहा है क्योंकि जब भी मैं घरवाली के सामने जाता हूँ तो वैसे ही अपने आप को कमजोर महशुश करता हूँ और मुझे अपने आप चक्कर भी आने लगते हैं.

ऐसा लगता कि घर + वाली उस युग के बाली का ही बदला हुआ रूप हैं....
*******************

वैलेंटाइन डे के 7 दिन पहले एक गिफ्ट शॉप पर वकील साहब गए। उन्होंने 40 खूबसूरत कार्ड ख़रीदे और सब पर उन्होंने भेजने वाले की जगह लिखा – “हैल्लो जान !! पहचान गए ना ? शाम को मिलो, "आई लव यू ”।

दुकानदार ने पूछा: ये क्या मामला है ?
वकील साहब ने बताया – पिछले वैलेंटाइन डे पर आस पास की कालोनी में ऐसे ही 20 कार्ड भेजे थे। कुछ ही दिन में तलाक के 4 केस मिल गए थे। इस बार 40 कार्ड भेज रहा हूँ। शायद अबकी बार डबल फायदा हो जाएँ....

एक टिप्पणी भेजें