Header Ads

Breaking News

Ads

दांत अंदर करने के तरीके और घरेलू उपाय Teeth Care Tips in Hindi

दांत मुंह से बाहर की तरफ निकलने और टेढ़े आने के पीछे एक कारण है, दांत अगर जबड़े के साइज से बड़े हो तो वे एक दूसरे पर दबाव डालते है जिस वजह से दन्त टेढ़े होने लगते है।


दांत अंदर करने के तरीके और घरेलू उपाय:-

1. दांतों पर दबाव डाल कर दांतों को सीधा और अन्दर किया जाता है, इसके लिए डॉक्टर प्लास्टिक या फिर किसी धातु की तार प्रयोग करते है, जिसे हम ब्रेसेस लगाना भी कहते है। इस प्रक्रिया में दांतों को तार की मदद से बाँधा जाता है जिससे दांतों पर दबाव पड़ता है।

2. ब्रेसेस लगाने के बाद दांत धीरे धीरे सीधे होते है और कई बार तो लोगों को कई सालों तक इन्हें लगा कर रखना पड़ता है। ब्रेसेस लगने के बाद खाना खाने में काफी  परेशानी होती ही क्योंकि भोजन कहते समय भोजन के कुछ कण तारों में फस जाते है, इसके इलावा ब्रेसेस दिखने में अच्छे भी नहीं लगते।

3. टीथ पर ब्रेसेस 2 तरह से लग सकते है – स्थायी (परमानेंट) और अस्थायी (टेम्पोरेरी). स्थायी ब्रेसेस लगाने से दांतों के ऊपर निरंतर एक दबाव पड़ता रहता है जिससे दबाव के अनुसार दन्त भी चलना शुरू कर देते है और धीरे धीरे सही जगह पर आ जाते है। अगर टीथ के बीच में गैप है तो वह समस्या भी इस ट्रीटमेंट से दूर हो जाती है।

4. अस्थायी ब्रेसेस में डॉक्टर एक प्लास्टिक टीथ कैप देते है जिन्हें दांतो पर लगाना होता है। इसे आप जब चाहे लगा सकते है और जब चाहे उतार सकते है पर इसमें दांत सीधे करने में स्थायी ब्रेसेस से अधिक समय लगता है।

5. दांत अंदर करने के लिए अगर तार लगवाया है तो चॉक्लेट, टॉफी, बबलगम और जादा ठंडी चीज खाने पिने से परहेज करे।