Header Ads

Breaking News

Ads

किन्नरों को मरवा दिया जाए - अकबर बीरबल की कहानी - Birbal’s Wisdom Funny Story

ख्वाजासरा नामक एक किन्नर बादशाह अकबर का काफी मूंहलगा था. वह बीरबल से काफी चिढता था इसलिए हर वक्त बीरबल की बुराई करते हुए उनके कान भरा करता था. वह बीरबल को किसी न किसी बहाने दरबार से निकलवा देने की फिराक में रहता था.

 

एक दिन ख्वाजसरा ने बीरबल के खिलाफ बहुत सी बातें बादशाह के कानो में डालकर कहीं – जहांपनाह आपने बेकार में ही बीरबल को अपने दरबार में रखा हुआ है.

बादशाह बोले - वह बडा हाजिर जवाब है. हर बात का जवाब एकदम सटीक देता है.
ख्वाजसरा बुरा सा मूंह बनाकर बोला. खाक जवाब देता है. अगर वह इतना ही हाजिर जवाब हैं तो मेरे तीन सवालों के जवाब दे, तब जानू.

बादशाह ने उसे आश्चर्य से देखा और बोले - तीन सवाल ?
बादशाह बोले - हां अलीजहां!
बादषाह ने पूछा. क्या सवाल है तुम्हारें?
बादशाह बोले - पहला सवाल प्रथ्वी का बीच कहां है? तारों की संख्या कितनी है? और तीसरा सवाल दुनियाभर में कितने मर्द और औरतें है?

यह सुनकर बादशाह अकबर ने बीरबल को तुरन्त दरबार में बुलाया और ख्वाजसरा के तीनों सवाल उनसे किये.

बीरबल ने दो-चार पांव इधर-उधर रखकर एक स्थान पर खूंटी गाड़ दी और कहा – प्रथ्वी का बीच इस जगह पर है जो न माने वह माप लें, इसके बाद बीरबल एक भेड़ को पकड लाए और उसे बादशाह के सामने खडा करके बोले – जहांपनाह इसके शरीर मे जितने बाल हैं उतने ही आकाश में तारें है?
तीसरे सवाल का जवाब देते समय बीरबल मूस्कूराकर बोले – जहापनाह मर्द और औरतों का हिसाब इन किन्नरों ने बिगाड रखा है, यह न मर्द हैं न औरत. यदि इन किन्नरों को मरवा दिया जाए तो ठीक-ठीक हिसाब लग जायेगा. यह सुनते ही ख्वाजसरा वहां से खिसक गया. बादशाह बीरबल की प्रशंसा करने लगे.