Header Ads

Breaking News

Ads

हिंदी कविता - तू अल्हड़ नदिया मैं प्यासा बादल हूं, बादल का क्या - Main pyasa badal hun

दोस्तों आज इन्टरनेट की दुनियां में घूमते हुए मुझे कुछ बहुत ही अच्छी कविताए मिल गई जिन्हें मैंने पढ़ा और जब मुझे पढने पर ये कविताए अच्छी लगी तो सोचा कि मैं इन्हें आपके सामने भी रख दूँ ताकि आप भी इन्हें पढ़ें. इन्हें किसने लिखा है इसके बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं मिल पाई है..


मैं प्यासा बादल हूँ

तू अल्हड़ नदिया मैं प्यासा बादल हूं, बादल का क्या
तू है पूरी एक सदी मैं इक पल हूं, एक पल का क्या
मैं जब भी सर से उतरा तो मैंने नंगी लाश ढकी
जन्मों, जन्मों से मैं मैला आंचल हूं, आंचल का क्या
कच्चे घरों की दहलीजों पर राजकुमार नहीं आते
क्वारे नयनों से मैं बहता काजल हूं, काजल का क्या
इस एहसास से खाली नगर में पंडित, आलिम, ज्ञानी हैं
इनके बीच अकेला मैं ही पागल हूं, पागल का क्या
मैं जगव्यापी, भूख, गरीबी, लाचारी हूं अमर रहूं
अश्वत्थामा की काया में घायल हूं, घायल का क्या।
-------

कुछ बरसाती बादल

गांव की इक-इक शै है बेकल खत में उसने लिखा है
राह तके है बूढ़ा पीपल खत में उसने लिखा है
खेत हैं सूखे, बदरा रूठे, खलिहानों
में धूल ही धूल
भेज दो कुछ बरसाती बादल खत में उसने लिखा है
गूंजे न खेतों में कजली पनघट पर सन्नाटा है
कब होगी चौपाल में हलचल खत में उसने लिखा है
साहूकार से कर्जा लेकर बिटिया ब्याही होरी ने
कुर्क हुए हैं बैल, बिका हल खत में उसने लिखा है
'राज' तुम्हारे शैहर का दामन खूं से तर दिखलाई दे
गांव का है बेदाग यह आंचल खत में उसने लिखा है
------

दो दिलों में था जो अंतर

प्रश्न करिए चाहे जितने मेरा उत्तर है वही
घाट बदले हैं नदी ने पर समंदर है वही
इक सड़क का मील, दूजा देवता मंदिर का है
वो भी पत्थर है यही और ये भी पत्थर है वही
दूरियां कम हो गई हैं, हो गए कम फासले
दो दिलों में था जो अंतर, अब भी अंतर है वही
दोस्त, तेरे-मेरे घर के एक से हालात हैं
जो उदासी तेरे घर में मेरे दर पर है वही
इक जरा से सच ने जिसको 'राज' नंगा कर दिया
झूठ वो ही तेरे अंदर, मेरे अंदर है वही
------

लेखक - अज्ञात