महिलाओं के शरीर पर इस जगह पहना गया सोना लाता हैं दुर्भाग्य..

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार प्रत्येक धातु हमारे ऊपर प्रभाव करती है । क्योंकि यह सब सौर्यमंडल में मौजूद ग्रहो का खेल है । हर धातु का एक खास ग्रह से संबंध होता है । यह गृह उन धातु को अपने अनुसार प्रभावित करते है।



चाहे ताम्बा, चांदी, सोना हो या महंगा रतन या फिर हिरे से बने आभूषण ये सभी चीजे चाहे तो हमे सवार सकती या फिर बिगाड़ सकती है । लेकिन अगर आप सोना पहनकर जीवन सवारना चाहते है तो ज्योतिषशास्त्र के अनुसार जानिये सोने के शुभ व अशुभ असर कैसे करे इसका प्रयोग.....

1. बाये हाथ में सोना पहने से बचे। बाये हाथ में सोना पहने से पहले किसी जानकार से सलाह ले या तभी पहने जब विशेष आवश्यकता हो। बाए हाथ में सोना पहने से कुछ लोग परेशांन हो सकते है।

2. संतान नहीं हो रही है तो अनामिका में सोना धारण करना चाहिए। सोना धीरे धीरे अपना असर दिखता है। और संतान योग को रोकने वाले ग्रहो को दूर करता है।

3. यदि आप सोना तिजोरी, अलमारी में रखते है तो ध्यान रखे कि यह स्थान घर के उत्तर पूर्व में होना चाहिए।

4. सोना लाल या पीले कपडे में बाँध कर रखना शुभ होता है। सोने के साथ केसर जरूर रखे। जिससे घर परिवार में धन धान्य कि समृद्धि होती है।

5. गर्भवती और वृद्ध महिलाओ को सोना धारण करने से बचना चाहिए। थोड़ा बहुत सोना पहन सकते है। लेकिन ज्यादा सोना पहने से परेशानी उत्त्पन हो सकती है।

6. पेरो में सोने की बिछिया या पायल नहीं पहना चाहिए। पेरो में पहने से जीवन में परेशानी आ सकती है। सेहत ख़राब हो सकती है।

7. ज्योतिष के अनुसार इस धातु का कारक बृहस्पति होने से सोने की वस्तु का दान किसी ब्राह्मण, पुजारी या गुरु को दे। किसी भी अनजान या अप्रिय व्यक्ति से सोना न ले।

8. सोना मिलना और गुम होना भी अशुभ होता है। सोने की वस्तु गुम होने से कलेश या बिमारी होती है। कही से मिली सोने की वस्तु घर में रखने से खर्चा बढ़ता है।

9. दाम्पत्य जीवन को खुशहाल बनाने के लिए गले में सोने की चैन और तर्जिनी ऊँगली में सोने की अंगुठी पहना चाहिए।

10. जिनका हो लोहे का काम। जो लोहा कोयला या शनि सम्बंधित धातु का व्यापार करते हो उनको सोना धारण नहीं करना चाहिए। इससे व्यापर में नुकसान होता है। सोना पहना जरूरी हो तो अपनी कुंडली के अनुसार ज्योतिष से सलाह लेकर पहने।

11. सोना ऊर्जा और गर्मी दोनों पैदा करता है। यदि सर्दी , जुखाम या सास की बिमारी हो तो सोना छोटी ऊँगली में धारण करना चाहिए। सोने का पानी पीने से इम्युनिटी पावर बढ़ता है।

12. कमर में सोना न पहने। क्यूंकि इससे आपका पाचन तंत्र खराब हो सकता है। साथ ही पथ सम्बन्धी कई बिमारी उत्त्पन हो सकती है।

13. सोना कभी अपवित्र नहीं होता है। शमसान , सुतक या किसी अन्य तरीके से अपवित्र हुए व्यक्ति सोना पहने या सोने का पानी खुद पर डालने से ही पवित्र हो जाता है।

एक टिप्पणी भेजें